देश में जल्द चलेंगी 150 नई प्राइवेट ट्रेनें

नई दिल्ली:  भारत में जल्द ही 150 नई प्राइवेट ट्रेनें चलाई जाएंगी। इस बारे में जानकारी हाल ही में आयोजित किए गए कार्यक्रम में शामिल हुए रेल मंत्री पीयूष गोयल ने दी। उन्होंने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि, इन 150 नई प्राइवेट ट्रेनों के लिए प्राइवेट क्षेत्र की कंपनियों को अपनी पसंद से रूट भी तय करने की पूरी आजादी दी जाएगी वह अपनी मर्जी से रूट्स का चुनाव कर सकती हैं।

रेल मंत्री ने बताया :

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इस कार्यक्रम के दौरान ही बताया कि, “प्राइवेट सेक्टर के लिए काफी संभावनाएं मौजूद हैं। यदि वह सेक्टर चाहते हैं तो, हमारी तरफ से उन्हें पूरा मौका दिया जाएगा। वह चाहती है तो, हम उनके साथ नई लाइनों में निवेश करने के लिए तैयार हैं। इतना ही नहीं, हम ट्रैफिक रूट को पट्टे पर देने के लिए भी राजी हैं। इसलिए ही प्राइवेट सेक्टर जिन रूट्स पर ट्रेने चला कर ट्रेन सेवाएं शुरू करना चाहते हैं, उन रूट की पहचान कर लें। रेल मंत्री ने आगे बताया कि, प्राइवेट सेक्टर राष्ट्रीय राजमार्गों के साथ एक एलिवेटेड गलियारे पर विचार कर सकता है, क्योंकि इसमें जमीन खरीदने जैसी समस्याएं नहीं आएंगी।

राज्य सरकारों पर कोई भुगतान पेंडिंग नहीं :

वहीं, इसी कार्यक्रम के दौरान रेलवे ने बताया कि, लॉकडाउन के दौरान अपने घरों से दूर फसें प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं है। इन ट्रेनों के लिए राज्य सरकारों पर किराए को लेकर कोई भुगतान पेंडिंग नहीं बचा है। बता दें, लॉकडाउन के दौरान रेलवे द्वारा एक मई से अब तक लगभग 4,436 श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा चुकी हैं। इन ट्रेनों की मदद से घरों से दूर फंसे 62 लाख से अधिक प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने का कार्य किया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper