देहरादून में अस्पताल की बड़ी लापरवाही, मोमबत्ती की रोशनी में हुई 9 गर्भवती महिलाओं की डिलिवरी

देहरादून: उत्तराखंड के दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामने आई है। जहां बिजली की सप्लाई न होने पर टार्च और मोमबत्ती की रोशनी में 9 गर्भवती महिलाओं की डिलिवरी की गई।

अस्पताल में भर्ती रवींद्र सिंह की पत्नी की डिलिवरी होने के बाद उन्होंने बताया कि आधी रात को मुझे कहा गया कि मैं अपनी पत्नी को किसी प्राइवेट अस्पताल में ले जाऊं लेकिन वह पहले से ही लेबर पेन झेल रही थी इसलिए हमने मोमबत्ती की रोशनी में ही डिलिवरी कराई।’ ऋषिकेश निवासी ममता अपनी बहन मनीषा को अस्पताल के डिलिवरी रूम लेकर आईं। उन्होंने बताया, ‘मेरी बहन की डिलिवरी के बाद टांके लगने थे लेकिन लाइट चले जाने की वजह से मोबाइल फोन के टॉर्च की रोशनी से इसे किया गया। मनीषा कहती हैं कि उन्होंने भाग्य से एक स्वस्थ बच्ची को जन्म दिया लेकिन ऐसी स्थिति में कुछ भी गलत हो सकता था।

यह घटना गढ़वाल डिविजन के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल की है जो पहाड़ी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं देता है। अस्पताल प्रशासन ने सफाई देते हुए कहा है कि जनरेटर में तकनीकी खराबी की वजह से बिजली सप्लाइ शुरू नहीं की जा सकी। इसके अलावा इतने बड़े अस्पताल का एकमात्र इलेक्ट्रिशन छुट्टी पर था। भारी बारिश के कारण पावर सप्लाइ मंगलवार रात 8 बजे ठप हो गई थी। इसके बाद बुधवार सुबह साढ़े दस बजे के करीब लाइट आई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper