नक्सल प्रभावित क्षेत्रों का भी सरकार कर रही विकास

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को दावा किया कि उनकी सरकार ने नक्सल प्रभावित सोनभद्र, चंदौली और मिर्जापुर में नक्सली गतिविधियों पर अंकुश लगाने के साथ ही भरपूर विकास कर रही है।मुख्यमंत्री दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में उग्रवाद प्रभावित राज्यों की समीक्षा बैठक में दावा किया कि नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पीएसी और पुलिस अपना काम मुस्तैदी से कर रही है और इन क्षेत्रों में भी भरपूर विकास हो रहा है।

गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि राज्य सरकार नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में नक्सलियों को मदद पहुंचाने वाले तत्वों पर पैनी निगाह रखे हुये हैं। ऐसे क्षेत्रों को चिन्हित कर सीआरपीएफ, पीएसी और पुलिस कॉ¨म्बग, सर्चिंग एवं पेट्रोलिंग की जा कर रही है। मीरजापुर में पीएसी की एक कम्पनी तैनात है, जबकि सोनभद्र में पांच, एक प्लाटून पीएसी एवं दो कम्पनी सीआरपीएफ तैनात है। चंदौली में भी दो कम्पनी पीएसी एवं एक कम्पनी सीआरपीएफ तैनात की गयी है। इन क्षेत्रों में समय समय पर एटीएस और आतंकवाद निरोधी दस्ता भी कार्रवाई करता है, जिस कारण नक्सलवादी गतिविधियों पर नियंतण्रबना हुआ है।

उन्होंने कहा कि सोनभद्र में 48वीं वाहिनी पीएसी इंडियन रिजर्व बटालियन के रूप में गठित है, जबकि चंदौली में दूसरी इंडियन रिजर्व बटालियन की स्थापना किये जाने का निर्णय लिया गया है। नक्सल प्रभावित जिलों में पुलिस थानों को और मजबूत किया गया है। मीरजापुर में तीन, सोनभद्र में आठ और चंदौली में चार फोर्टीफाइड पुलिस थानों का निर्माण कार्य पूरा किया जा चुका है और इन थानों में नियुक्तियां भी पूरी की जा चुकीं हैं। श्री योगी ने कहा कि सोनभद्र में 6.75 किमी लम्बी सड़क और एक पुल का काम सितंबर 2020 तक पूरा हो जायेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper