नासा को बड़ी सफलता, पृथ्वी से तीन गुना बड़े इस नए ग्रह पर मिले जिंदगी के संकेत

नई दिल्ली: धरती के अलावा किसी अन्य ग्रह पर जीवन पनपने की संभावनाएं तलाश रहे वैज्ञानिकों को बड़ी सफलता हाथ लगी है। नासा के ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट (टीईएसएस) ने सौरमंडल के बाहर एक नए ग्रह की खोज की है। टीईएसएस द्वारा खोजा गया यह तीसरा ग्रह है।

यह ग्रह पृथ्वी से 53 प्रकाश वर्ष की दूरी पर है। इस ग्रह को एचडी 21749बी नाम दिया गया है। यह रेटीकुलम तारामंडल के सूर्य के समान चमकीले ड्वार्फ (बौने) तारे का चक्कर लगा रहा है। तारे से नजदीक होने के बाद भी इस ग्रह की सतह का तापमान 300 डिग्री फेरनहाइट ही है। वैज्ञानिकों का कहना है कि पानी के कारण इसका वायुमंडल घना है और इस पर जीवन की संभावना भी हो सकती है।

एचडी 21749बी को अपने तारे की परिक्रमा पूरी करने में 36 दिन लगते हैं। इस ग्रह की खोज से जुड़ीं मैसाच्युसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की डायना ड्रैगोमिर का कहना है कि इतने गर्म तारे की परिक्रमा कर रहा एचडी 21749बी अब तक का सबसे ठंडा ग्रह है। नासा का टीईएसएस मिशन तीन महीने में 3 ग्रह और 6 सुपरनोवा की खोज कर चुका है। एचडी 21749बी इसकी ताजा खोज है।

यह तीसरा ग्रह है, जिसकी खोज नासा के टीईएसएस ने की है। नासा ने इसे पिछले साल अप्रैल में लांच किया था। अगस्त में इसने पहली तस्वीर भेजी थी। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि दो साल के अभियान के दौरान यह करीब 20 हजार बाहरी ग्रहों की खोज करेगा। इसके लांच होने से पहले केवल 3,800 एक्सोप्लैनेट का पता चल पाया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper