निजी ट्रेन चलाने को लेकर कई एयरलाइंस इच्छुक

नई दिल्ली: देश की पहली कॉरपोरेट ट्रेन तेजस की शुरुआत होने के साथ ही निजी ट्रेन ऑपरेशन के लिए कई कंपनियों में रुचि बढ़ने लगी है। कई एयरलाइंस और पर्यटन व टूर ऑपरेटर के पेशे से जुड़ी कंपनियों ने अपनी इच्छा दिखायी है। इन कंपनियों ने इस संबंध में जानकारी जुटाने के लिए रेलवे बोर्ड से सम्पर्क करना शुरू कर दिया है। इससे यह तय माना जा रहा है कि कुछ महीने के बाद जब रेलवे निजी ट्रेन ऑपरेटरों के लिए दरवाजे खोलेगी तो ये कंपनियां आगे आएंगी। दरअसल रेलवे बोर्ड आगामी कुछ वर्षो के दौरान करीब डेढ़ सौ निजी ट्रेन चलाने का प्रस्ताव तैयार कर रहा है।

यह निजी ट्रेनें मुंबई, कोलकाता और चेन्नई जैसे लंबी दूरियां की होंगी तो कुछ लोकल ट्रेनें मुंबई और कोलकाता जैसे महानगरों के लिए भी होंगी। इनके अलावा कारोबारी शहरों को जोड़ने के लिए भी इंटरसिटी ट्रेनें भी हो सकती हैं। इसके लिए रेलवे व्यापक स्तर पर काम रहा है। हालांकि रेलवे ने निजी ट्रेन आपरेशन शुरू करने से पहले कॉरपोरेट ट्रेन के रूप में लखनऊ- नई दिल्ली-लखनऊ के रूप में कर दी है।

इस ट्रेन का परिचालन आईआरसीटीसी के जरिए किया जा रहा है। इस ट्रेन के परिचालन से रेलवे को ढेर सारा अनुभव मिलेगा। इसक अलावा रेलवे को कितनी आय होगी और नफा-नुकसान का आकलन किया जा सकेगा। इसी के आधार निजी ट्रेन आपरेटर के लिए नियम, रूट और लाइसेंस फीस आदि तय किये जा सकेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper