निर्भया केस : मौत का फरमान जारी होने के बाद दोषी विनय की उड़ी नींद, कुछ इस तरह हो गयी हालत

मौत का फरमान जारी होने के बाद तिहाड़ जेल संख्या-4 में बंद विनय बेचैन है। उसकी नींद उड़ी हुई है और वह अक्सर अपने बैरेक में चहलकदमी करता रहता है। उसकी हालत देख कर जेल अधिकारी लगातार उसका काउंसलिंग करवा रहे है। जेल अधिकारियों का कहना है कि वो थोड़ा बेचैन है लेकिन जेल में उसका पूरा ध्यान रखा जा रहा है।

जेल सूत्रों का कहना है कि विनय निर्भया मामले के तीन अन्य दोषियों से अलग जेल नंबर चार के कसूरी सेल में बंद है। उसके पास किसी भी अन्य कैदी को जाने की अनुमति नहीं है। ऐसे में मौत की तारीख नजदीक आने के साथ ही उसकी बेचैनी बढ़ गई है। वो जेल कर्मियों से कम ही बात करता है। उसे नींद भी कम आ रही है। सूत्रों का कहना है कि वो अक्सर कुछ ना कुछ सोचता रहता है।

रात में भी वह अपने सेल में चहलकदमी करने लगता है। उसकी बेचैनी को देखकर जेल अधिकारी उसपर विशेष नजर रख रहे हैं। जेल के अधिकारियों का कहना है कि उसपर 24 घंटे सीसीटीवी कैमरे से नजर रखी जा रही है और सुबह शाम उसकी मेडिकल जांच की जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper