नेपाल के पशुपतिनाथ मंदिर के पास है 9 किलो सोना व 316 किलो चांदी

काठमांडू: नेपाल के प्रसिद्ध पशुपतिनाथ मंदिर के पास नौ किलो सोना, 316 किलो चांदी है। इसके अलावा मंदिर का 1.29 अरब रुपया (नेपाली मुद्रा) बैंकों में जमा है। इसका जिक्र एक मीडिया रिपोर्ट में किया गया है। मंदिर की आय अनेक लोगों के लिए उत्सुकता का विषय रही है। ऐसा माना जाता है कि पशुपतिनाथ मंदिर शुमार नेपाल के सबसे ज्यादा पैसे वाला हिंदू मंदिरों में शुमार है। यहां रोज हजारों नेपाली और भारतीय नागरिक पैसे, सोना और चांदी का चढ़ावा चढ़ाते हैं।

मंदिर के शासी निकाय की ओर से बुधवार को प्रकाशित आंकड़ों के अनसार, मंदिर में पिछले 56 साल में चढ़ावे के रूप में 9.27 किलो सोना, 316 किलो चांदी चढ़ाए गए हैं। इन आंकड़ों का जिक्र हिमालयन टाइम्स की रिपोर्ट में की गई है। मंदिर कब बना इसकी जानकारी स्पष्ट नहीं है मगर कुछ लोगों का कहना है कि यह मंदिर परिसर 400 ईसा पूर्व से विद्यमान है।

पशुपति एरिया डेवलपमेंट ट्रस्ट (पीएडीटी) द्वारा मंदिर की आय का पता लगाने के लिए एक समिति गठित की गई थी जिसने 1962 से लेकर 2018 तक की अवधि के दौरान प्राप्त सोने व चांदी का जिक्र किया गया है। इसके अलावा 25011-18 में श्रद्धालुओं से 1.044 किलो सोना और 198 किलो चांदी संग्रहित हुए। रिपोर्ट के अनुसार, पीएडीटी के बैंक खाते में 1.29 अरब रुपये जमा है। पीएडीटी के कोषाध्यक्ष मिलन कुमार थापा की अध्यक्षता वाली समिति के अनुसार, 1962 से पहले की आय का कोई लेखा-जोखा उपलब्ध नहीं है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper