न समझे अनार के छिलके को बेकार , हैं इसके भी बढ़े फायदे

नई दिल्ली । अब तक अपने सुना होगा कि अनार खाने से शरीर में खून बढ़ता है और शरीर स्वस्थ रहता है लेकिन अब हम आपको अनार के छिलके के बारे में कुछ ऐसा बताने वाले है जिससे आपकी कई बीमारियां दूर हो सकती हैं। अनार के छिलके की चाय बनाकर पीने से कई तरह के कैंसर और त्वचा संबंधित रोग दूर होते हैं। अनार के छिलकों में एंटीऑक्सिडेंट्स होता है जिससे दिल की बीमारी , कैंसर और त्वचा के रोग शरीर में नहीं पनपते हैं।

कैसे बनाएं अनार के छिलके की चाय

अनार के छिलके की चाय बनाने के लिए सबसे पहले एक कप पानी गर्म कर लें । गर्म पानी में एक चम्मच अनार का पाउडर डालकर थोड़ी देर तक रख लें । कुछ समय बाद पानी को छानकर छिलके को अलग कर पी लें । स्वाद के लिए चाय में नींबू या ऑर्गेनिक शहद का प्रयोग भी कर सकते हैं।

अनार के छिलके की चाय के फायदे

-अनार के छिलके में एंटीऑक्सिडेंट्स होता है जिससे शरीर की पाचन शक्ति मजबूत होती है। छिलके की चाय को हमेशा खाना खाने के बाद पीना चाहिए।

-अनार के छिलके की चाय पीने से गले के रोग जैसे खरास , गले में दर्द और टॉन्सिल से राहत मिलती है।

-अनार के छिलके की चाय पीने से हृदय के रोग भी दूर होते हैं । छिलकों में एंटीऑक्सिडेंट्स होता है जिससे हृदय के रोग होने की आशंका कम रहती है। इस चाय को पीने से उच्च रक्त चाप और कोलेस्ट्रॉल की बीमारी नहीं होती है।

-अनार के छिलके की चाय पीने से चहरे की झुर्रियां कम होती है । छिलकों में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट्स के कारण फ्री रेडिकल्स न्यूट्रिलाइज में बदल जाता है जिससे चेहरे की झुर्रियां और काले घेरे खत्म हो जाते हैं और आपकी उम्र कम लगने लगती है ।

-अनार के छिलकों की चाय पीने से हड्डी और जोड़ों को मजबूती मिलती है। छिलकों में कई और पोषक तत्व होते है जिससे कई तरह के कैंसर दूर होते हैं। इस चाय को पीने का सबसे ज्यादा फायदा त्वचा के कैंसर में होता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper