पंजाब बंद: जालंधर में बारिश के बावजूद रविदास समाज का जगह-जगह प्रदर्शन जारी, यातायात प्रभावित

जालंधर: सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दक्षिणी दिल्ली में श्री गुरु रविदास जी का मंदिर गिराने के विरोध में रविदास समाज आज पंजाब बंद करा रहा है। जालंधर में भी पंजाब बंद का पूरा असर देखने को मिल रहा है। यहां रविदास समाज द्वारा जगह-जगह रोड जाम किया गया है। यहां तक के बसों, गाड़ियों यहां तक कि दोपहिया वाहनों पर भी पूर्ण पाबंदी लगाई गई है। जिस कारण आम जनता को भारी परेशानियोें का सामना करना पड़ रहा है।

पंजाब बंद की कॉल के चलते पूरे राज्‍य में सुरक्षा के बेहद कड़े इंतजाम किए गए हैं। पंजाब सरकार ने राज्‍य में हाई अलर्ट जारी किया है।अलर्ट के मद्देनजर राज्‍य में 5000 अतिरिक्‍त पुलिस के जवान तैनात किए गए हैं। राज्‍य में अधिकतर स्‍थानों पर सुबह से बाजार बंद हैं। जालंधर सहित कई जगहों पर रविदास समाज के लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। रविदास समाज के लोग विभिन्न जिलों में प्रदर्शन करेंगे। जालंधर, लुधियाना, होशियारपुर, गुरदासपुर व कपूरथला में सरकारी व प्राइवेट स्कूल बंद रहेंगे।

पंजाब रोडवेज के जनरल मैनेजर परनीत सिंह मिन्हास ने कहा कि पंजाब रोडवेज मुख्यालय ने बसें बंद रखने संबंधी कोई आदेश जारी नहीं किया गया है। इस बीच केंद्रीय राज्य मंत्री सोम प्रकाश ने डेरा सचखंड बल्ला में गद्दीनशीं श्री 108 संत निरंजन दास जी से मुलाकात कर उनका आशीर्वाद लिया। उन्होंने भी लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper