पटरी से उतरा जियो का नेटवर्क, उपभोक्ता परेशान

लखनऊ: मोबाइल क्षेत्र में तहलका मचाने वाली निजी संचारकम्पनी जियो का नेटवर्क पटरी से उतर गया है। बार-बार कनेक्टिविटी ब्रेक होने से डाटा सेवाओं के साथ ही वायस काल में भी परेशानी हो रही है। उपभोक्ताओं कस्टमर केयर नम्बर पर शिकायत करते हैं तो उन्हें नेटवर्क सही करने का आश्वासन दिया जाता है लेकिन जमीनी स्तर पर नेटवर्क में कोई सुधार नहीं हो रहा है। जियो कम्पनी ने सबसे सस्ती व सबसे तेज डाटा सेवाएं देकर अन्य संचार कम्पनियों की हालत खराब कर दी है।

सस्ती सेवा के कारण बड़ी संख्या में मोबाइल उपभोक्ताआ एमएनपी के माध्यम से जियो नेटवर्क से जुड़ गये हैं। कम समय में अधिक ग्राहकों के नेटवर्क में जुड़ने से जियो कम्पनी का नेटवर्क बीएसएनएल की तरह कंजेशन की समस्या से जूझ रहा है। बताया जा रहा है कि संचार कम्पनी ने जिस अनुपात में मोबाइल उपभोक्ता नेटवर्क से जुड़े हैं उस अनुपात में नेटवर्क का विस्तार नहीं हो पाया है। इससे जियो नेटवर्क में अधिकतर समय कंजेशन की समस्या बनी रहती है।

इससे डाटा की स्पीड कम होने के साथ ही वायस काल में भी परेशानी हो रही है। डाटा की स्पीड इतनी कम हो गयी है कि इसे फोर जी नेटवर्क तो दूर री जी की भी सुविधा नहीं मिल पा रही है। हालत इतनी खराब है कि वाट्सएप मैसेज की डिलीवरी में भी परेशानी हो रही है। जियो के उपभोक्ताओं का कहना है कि नेटवर्क की समस्या जल्द सही नहीं की गयी तो वह जियो का नेटवर्क छोड़कर अन्य संचार कम्पनियों में पोर्ट कर लेंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper