पढ़ाई से परेशान छोटी सी बच्ची ने पीएम मोदी तक पर निकाला गुस्सा, बोली-एक बार मिल जायें तो पानी डालकर प्रेस कर दूंगी

बड़े होने के बाद हर व्यक्ति अपना बचपन याद करता है और दुआं करता है कि काश फिर से बचपन के वो दिन वापस आ जाये. अब आपका बचपन तो वापस आने वाला नहीं है लेकिन बचपन की एक ऐसी वीडियो दिखाने जा रहे हैं जिसने लोगों को हंसी से लोट-पोट कर दिया है. हर कोई कहे रहा है कि ये बच्ची तो हमारे पिता, दादा जी सभी का बदला लेकर रहेगी. बचपन में शायद आपको भी पढ़ाई सबसे बुरा काम लगता होगा. पढ़ाई का नाम सुनते ही नींद आने लगती होगी, भूख लगने लगती होगी और कभी-कभी तो पढ़ाई रुला भी देती थी. आज हम आपको एक बच्ची का वीडियो बताने जा रहे हैं जिसमें बच्ची ने पढ़ाई के चक्कर में पीएम नरेंद्र मोदी तक पर गुस्सा निकाल दिया.

जैसा कि आज बाल दिवस है स्कूलों और घरों में बाद दिवस बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है, तो वहीं सोशल मीडिया पर ये बच्ची स्कूल से परेशान होकर पीएम मोदी जी को हराने की सोच रही है. वायरल वीडियो में बच्ची कहे रही है कि मैं तो स्कूल इतना परेशान हो गईं हूं कि अगर स्कूल स्थापित करने वाला इंसान मिल जाये तो मैं उसके ऊपर पानी डालकर स्त्री कर डालूंगी.

बच्ची कहे रही है कि हर रोज सुबह जल्दी उठो, ब्रश करो, नहाओ, ड्रेस पहनकर तैयार हो, घर से निकलो और फिर स्कूल जाकर टीचर की डांट खाओ. मैं बहुत परेशान हो गई होमवर्क से, पूरा दिन बस पढ़ो, पढ़ो और कुछ है नहीं जिंदगी में…बच्ची से जब पीएम मोदी के बारे में पूछा गया तो बोलती है कि पीएम मोदी को एक बार हारना पढ़ेगा तब ही पढ़ाई अच्छी बनेगी. दुनिया इतनी अच्छी बनाई है थोड़ी पढ़ाई भी अच्छी बना देते तो हम सब आनंद लेकर पढ़ाई करते.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper