पश्चिम बंगाल में लड़की से ‘रेप और हत्या’ पर लोगों में फूटा गुस्सा, पुलिस पर हमला, कई गाड़ियां आग के हवाले

रायगंज: किशोरी की कथित रूप से बलात्कार के बाद हत्या के मामले को लेकर पश्चिम बंगाल के दिनाजपुर जिले में रविवार (19 जुलाई) को प्रदर्शन हुए और भीड़ ने राष्ट्रीय राजमार्ग 31 को अवरुद्ध कर दिया तथा सरकारी बसों और पुलिस की गाड़ियों को आग लगा दी। प्रदर्शनकारी आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। हालांकि पुलिस के मुताबिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह सामने आया है कि लड़की की मौत जहर खाने से हुई है। 15 वर्षीय पीड़िता ने इसी साल दसवीं की परीक्षा दी थी। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि किशोरी रविवार सुबह सिलीगुड़ी के पास सोनापुर गांव में स्थित अपने घर से शौचालय जाने के लिए निकली थी, जिसके बाद उसको कथित रूप से अगवा कर लिया गया। वह कुछ घंटों के बाद मृत मिली। ग्रामीणों का आरोप है कि उसकी हत्या करने से पहले उसके साथ दुष्कर्म किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि पुलिस कर्मी अवरोध हटाने की कोशिश कर रहे थे तभी, उत्तर बंगाल राज्य परिवहन निगम की तीन बसों को आग लगा दी गई। साथ में पुलिस की तीन गाड़ियों को भी फूंक दिया गया। अधिकारियों ने बताया कि अवरोध और प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए रैपिड एक्शन बल समेत अतिरिक्त बल मौके पर बुलाया गया। इस हिंसक प्रदर्शन में कुछ पुलिसकर्मी सहित कम-से-कम 30 लोगों के जख्मी होने की खबर है। देर शाम तक इलाके में तनाव बना हुआ था। पीड़ित लड़की के परिवार ने यह दावा किया है कि घटनास्थल से संदिग्ध हत्यारे का एक मोबाइल फोन और एक साइकिल बरामद हुआ था, लेकिन नाम जाहिर ना करने की शर्त पर एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि वहां से एक जगह की शीशी भी मिली थी।

स्थानीय लोग और भाजपा समर्थकों ने चोपरा राज्य हाईवे को घंटेभर के लिए जाम कर दिया था। दोपहर में, उनलोगों ने राष्ट्रीय राजमार्ग-31 को भी जाम कर दिया। इसके बाद जब वहां पहुंची पुलिस ने जाम को हटाने की कोशिश की, तो प्रदर्शनकारियों ने पथराव शुरू कर दिया। इस दौरान काफी झड़पें हुईं और हालात को काबू में लाने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करने के साथ ही आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। इस्लामपुर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एसीपी) कार्तिक चंद्रा मांडल ने कहा कि लड़की के शरीर को पोस्टमार्टम परीक्षण के लिए भेजा गया है। पीड़िता के बड़े भाई ने कथित तौर पर कहा कि उसका परिवार भाजपा समर्थक है इसीलिए उसकी बहन के साथ रेप किया गया और फिर उसकी हत्या कर दी गई। उसने दावा किया कि वह एक स्थानीय भाजपा नेता है और इस घटना के लिए सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस जिम्मेदार है। पश्चिम बंगाल पुलिस ने रविवार रात सिलसिलेवार ट्वीट में कहा कि लड़की के पोस्टमार्टम परीक्षण के प्रारंभिक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि उसकी मौत जहर से हुई है और बलात्कार के एक भी संकेत नहीं मिले हैं। ट्वीट्स में यह भी कहा गया है कि लड़की के परिवार ने कोई शिकायत अभी तक दर्ज नहीं कराई है और पुलिस ने खुद ही इस मामले पर कार्रवाई की है।

एक ट्वीट में कहा गया, “आज सुबह इस्लामपुर पीडी को चोपरा पुलिस स्टेशन क्षेत्र की एक युवा लड़की की मौत के बारे में एक विश्वसनीय सूचना मिली। परिवार के सदस्यों या किसी अन्य संबंधित व्यक्ति ने पुलिस को इस बारे में सूचित नहीं किया। पुलिस ने परिवार से संपर्क किया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा।” ट्वीट में कहा गया, “एक मजिस्ट्रेट के द्वारा कानूनी जांच के बाद पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी कराई गई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक ‘जहर के असर’ से लड़की की मौत हुई है। लड़की के शरीर पर कहीं भी चोट का कोई निशान नहीं मिला है। शारीरिक और यौन उत्पीड़न का भी कोई संकेत नहीं है। फिर भी इस मुद्दे को लेकर कानून-व्यवस्था में परेशानी खड़ी की गई। इस मामले में अब तक कोई शिकायत पुलिस में दर्ज नहीं कराई गई है।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper