‘पहाड़ों की रानी’ मसूरी में ये जगह घूमे बिना अधूरा है आपका ट्रिप

मसूरी: ‘देवभूमि उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में जब कोई एक सुरम्य स्थल धनोल्टी पहुंचता है, तो वह वहां देवदार के पेड़ों के माध्यम से ताजी हवा महसूस करता है. इस हवा में मिट्टी, लकड़ी की सुगंध और आस-पास के वातावरण की महक मिली होती है.

तब आप महसूस करते हैं कि आप भीड़-भाड़ वाले शहर की हलचल को पीछे छोड़ आए हैं और आनंद का अनुभव कर रहे हैं. पहाड़ों की रानी के नाम से चर्चित ‘मसूरी’ में अधिक भीड़ होने के कारण, यह अपना आकर्षण खोने लगी है और लोग अब अन्य विकल्पों को तलाश रहे हैं.

बर्सन ब्रीज होटल के मालिक अनिल कुमार ने कहा, “यदि कोई प्रकृति को सबसे बेहतर रूप से मेहसूस करना चाहता है, ताजी हवा का अनुभव करना चाहता है, हिमालय से सीधे आने वाले खनिज पानी को पीने की इच्छा अगर उसे है, तो धनोल्टी ही वह स्थान है जिसकी उसे तलाश है.”

अनिल ने कहा, “लेकिन, इसे वरदान कहें या शाप, धनोल्टी का तेजी से व्यवसायीकरण हो रहा है और हम पहले की तुलना में यहां बहुत अधिक पर्यटकों को देख रहे हैं.” कुमार खुद दिल्ली से ताल्लुक रखते हैं. उन्होंने कहा कि वह राष्ट्रीय राजधानी के शोर और प्रदूषण से बचना चाहते हैं और इसलिए उन्होंने यहां एक लॉज बनाया, जहां से बर्फ की चादर से ढकी हिमालय की श्रृंखला देखी जा सकती है.

कुमार ने कहा, “पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए, हमने अपने बगीचों में फूलगोभी, आलू और मूली उगाई हैं और उन्हें अपने रेस्तरां में ताजा उपयोग करते हैं.”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper