पाकिस्तान ने भारत के लिए खोला अपना एयर स्पेस, बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद किया था बंद

इस्लामाबाद: बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद से बंद अपने हवाई क्षेत्र से पाकिस्तान ने प्रतिबंध हटा दिया है। मंगलवार को पाकिस्तान सिविल एविएशन अथॉरिटी ने तत्काल प्रभाव से भारत के सभी नागरिक यातायात के लिए अपने हवाई क्षेत्र को खोलने का आदेश दिया। जिसके बाद भारतीय विमानों की पाकिस्तान के एयर स्पेस में आवाजाही शुरू हो जाएगी।

26 फरवरी को बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के आतंकी शिविर पर भारतीय वायु सेना द्वारा हवाई हमले किए जाने के बाद पाकिस्तान ने भारत के साथ पूर्वी सीमा पर अपना हवाई क्षेत्र पूरी तरह से बंद कर दिया था। हाल ही में पाकिस्तान ने कहा था कि भारत जबतक अपने लड़ाकू विमानों को वायुसेना के एयरबेस से नहीं हटा लेता, तब-तक वह कमर्शियल उड़ानों के लिए अपना एयर-स्पेस नहीं खोलेगा।

दरअसल, 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में जैश-ए-मुहम्मद के आतंकियों द्वारा किए गए हमले के जवाब में भारत ने आतंकी ठिकानों पर हमला किया था। पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

मार्च में पाकिस्तान ने आंशिक रूप से अपना हवाई क्षेत्र खोला था, लेकिन भारतीय विमानों को अपने हवाई क्षेत्र में उड़ान भरने की अनुमति नहीं दी थी। पाकिस्तान के प्रतिबंध के बाद सभी यात्री उड़ानों को भारत के वैकल्पिक मार्गों की ओर मोड़ दिया गया था। इसकी वजह से एयरलाइनों पर ईंधन की लागत बढ़ गई थी। एयर स्पेस बंद होने का सबसे ज्यादा असर यूरोप से दक्षिण पूर्व एशिया की उड़ानों पर पड़ा।

बता दें कि पिछले महीने पाकिस्तान ने किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक की आधिकारिक यात्रा के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को अपने हवाई क्षेत्र का उपयोग करने की विशेष अनुमति दी थी। हालांकि, प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तान के एयर स्पेस का उपयोग न कर दूसरे रास्ते से जाने का फैसला लिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper