पाकिस्तान में 40 आतंकवादी संगठन सक्रिय थे, इमरान खान का कबूलनामा, पुलवामा पर फिर झूठ बोला

वाशिंगटन: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने एक सनसनीखेज बयान दिया है। अमेरिका दौरे पर गए पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने खुलासा किया है कि पाकिस्तान में 40 आतंकी संगठन चल रहे थे। अमेरिकी सांसदों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान ने खुलासा किया कि उनके देश में 40 अलग-अलग आतंकवादी समूह पाकिस्तानी सीमाओं के भीतर काम कर रहे थे। उन्होंने आगे कहा कि इसकी जानकारी पहले की सरकारों ने अमेरिका को नहीं दी। इमरान खान ने साथ ही कहा कि पिछले 15 साल से पाकिस्तान, अमेरिका को गुमराह करता रहा है।

इमरान खान ने आगे कहा, ‘हम आतंकवाद के खिलाफ अमेरिकी युद्ध लड़ रहे थे। पाकिस्तान का 9/11 से कोई लेना-देना नहीं है। अल-कायदा अफगानिस्तान में था। पाकिस्तान में कोई आतंकवादी तालिबान नहीं थे। लेकिन हम अमेरिकी युद्ध में शामिल हो गए। दुर्भाग्य से, जब चीजें गलत हुईं, जहां मैं अपनी सरकार को दोषी मानता हूं, हमने अमेरिका को को सच्चाई नहीं बताई।उन्होंने कहा, ‘इसकी वजह यह थी कि हमारी सरकारें नियंत्रण में नहीं थीं। पाकिस्तान में 40 अलग-अलग आतंकवादी समूह चल रहे थे।

एक तरफ पाकिस्तान में 40 आतंकियों से सक्रिय होने की बात इमरान खान ने कबूली है तो वहीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने पुलवामा को लेकर सफेद झूठ बोला है। इमरान खान ने कहा है कि पुलवामा हमले को कश्मीर के स्थानीय लड़के ने अंजाम दिया था। इससे पाकिस्तान का कोई लेना देना नहीं है। बता दें, मसूद अजहर के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी लेकिन इमरान ने इसको लेकर भी गलत बयान दिया है। इमरान ने कहा कि भारत में सक्रिय जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।पुलवामा आतंकी हमला। इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper