पाक सेनाध्यक्ष की गीदड़ भभकी: कश्मीर के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार

नई दिल्ली: कश्मीर पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेइज्जती करवा चुका पाक युद्ध का ढोल पीट रहा है। पाकिस्तान ने एक बार फिर भारत को युद्ध की गीदड़भभकी दी है। तिलमिलाए पाक सेनाध्यक्ष जनरल कमर जावेद बाजवा ने भारत के खिलाफ आखिरी गोली तक लड़ने की धमकी दे डाली। उन्होंने अपने देश के इतिहास के खिलाफ बयान दिया कि पाकिस्तान दुनिया को शांति और सुरक्षा का संदेश दे रहा है। पाकिस्तान के रक्षा और शहीद दिवस के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान पाक आर्मी चीफ जरनल कमर जावेद बाजवा ने कश्मीर राग अलापते हुए कहा कि कश्मीर में जुल्म हो रहे हैं। कहा कि कश्मीर मसले का हल वहां की जनता की ईच्छा के अनुरूप होना चाहिए और ऐसा नहीं होता है तो हम कुछ भी करने के लिए तैयार हैं।

जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद से ही पाकिस्तान लगातार बौखलाया हुआ है। शुक्रवार को पाक आर्मी के मुख्यालय रावलपिंडी में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जनरल बाजवा ने कहा, ‘कश्मीरों के हकों पर हमला किया है जो हमारे और आर्मी के लिए चैलेंज है। पाकिस्तान और कश्मीरियों के दिल एक साथ धड़कते हैं। हम कश्मीरियों के लिए हर कुर्बानी देने के लिए तैयार हैं। हम आखिरी गोली, आखिरी सिपाही और आखिरी सांस तक लड़ेंगे और इसके लिए हम हर हद तक जाने को तैयार हैं।’ यह पहला मौका नहीं है जब पाकिस्तान ने इस तरह की धमकी दी हो उसके प्रधानमंत्री से लेकर कई मंत्री भारत को युद्ध ही नहीं परमाणु युद्ध की धमकी दे चुके हैं। इससे पहले इमरान खान ने भी आज जम्मू कश्मीर को लेकर कई ट्वीट किए।

आपको बता दें कि जब से भारत ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म किया है तब से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। पाकिस्तान कश्मीर मसले को कई अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाने की नाकाम कोशिश भी कर चुका है और हर जगह से उसे निराशा ही हाथ लगी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper