पाचवें चरण के बाद ही कांग्रेस ने मान ली है हार, अब हो रही नामदार को बचाने की तैयारीः नरेंद्र मोदी

देवघर: झारखंड के संथाल परगना में भाजपा का विजय पताका लहराने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को बाबा बैद्यनाथ की नगरी देवघर पहुंचे। यहां निर्माणाधीन कुंडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर आयोजित विजय संकल्प रैली में सिदो-कान्हू, चांद-भैरव और तिलका मांझी को जोहार से शुरुआत करते हुए अपने संबोधित में उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और विपक्षी गठबंधन पर जोरदार हमला बोला। अपार भीड़ देख उत्साहित होते हुए कहा, 23 को क्या होने वाला है, यह जीता-जागता उदाहरण है। भाजपा की विजय होने वाली है। पांचवें चरण के चुनाव के बाद ही कांग्रेस ने अपनी हार मान ली है। हार के बाद उसका ठीकरा किसके सिर पर फोड़े इसकी तैयारी कांग्रेस कर रही है।

पीएम मोदी ने कहा कि नामदार को बचाने के लिए क्या किया जाये इसके लिए वहां अभ्यास चल रहा है। अब हार का बहाना ढूंढने के लिए बैठकों का दौर जारी है। नामदार को बचाने के लिए व्यूहरचना की जा रही है ताकि हार का ठीकरा किसी और के सिर फोड़ा जा सके। उन्होंने कहा, नामदार परिवार के दो सबसे करीबी दरबारियों ने अपनी तरफ से बैटिंग शुरू कर दी है। वरना इनकी हिम्मत नहीं है कि कप्तान से पूछे बिना मैच खेलने उतर जायें। एक नामदार के गुरु हैं सैप पित्रोदा और दूसरे मणिशंकर अय्यर हैं। कांग्रेस में नामदार के बगैर इशारे कोई कुछ नहीं बोलता है। नामदार के इशारे पर ही गुरु ने “जो हुआ सो हुआ” वाला बयान दिया। उन्होंने कहा कि 84 के सिख दंगा को जायज ठहराया। दूसरे हैं, जो गुजरात चुनाव के समय भी हमें गाली देकर हिट विकेट होकर मैदान से बाहर थे। वे फिर मैदान में आ गए हैं। मुझे गाली दे रहे हैं। यह सब नामदार के इशारे पर हो रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि घोटाले का एक भी दाग हमारी सरकार पर नहीं है और जब ये बात मैं बाबा धाम में कह रहा हूं तो मुझे गर्व हैं कि उनके इस भक्त को ईमानदार सरकार का नेतृत्व करने का देश की जनता ने सौभाग्य दिया है। मैं अपने आदिवासी भाई-बहनों को फिर बता दूं कि वोट के लिए ये महामिलावटी किसी को भी ठग सकते हैं। जब तक मोदी है तब तक आपकी जमीन, आपके हक को कोई हाथ नहीं लगा पायेगा।

उन्होंने कहा कि जिस आदिवासी समाज ने अंग्रेजों से लोहा लिया हो, जहां भगवान बिसरा मुंडा की समृद्ध विरासत है, वो समाज और देश को तोड़ने वाली महामिलावट को कभी स्वीकार नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि वन धन और जन-धन योजना के माध्यम से वन उपज का ज्यादा से ज्यादा लाभ आदिवासियों को मिले और उन्हें बिचौलियों से मुक्ति मिले, हम ये सुनिश्चित करने का प्रयास कर रहे हैं। हमने वन उपज पर एमएसपी का दायरा भी बढ़ाया है। पहले 10 वन उपजों पर ही एमएसपी मिलता था, अब इसकी संख्या बढ़ाकर 50 कर दी गयी है।

प्रधानमंत्री मोदी ने संथाल के विकास के लिए किये जा रहे कार्यों को गिनाया। कहा, साहिबगंज में बंदरगाह और देवघर में एम्स का निर्माण हो रहा है। उन्होंने कहा कि बाबाधाम का विकास और यहां सुविधाओं को विकसित करने के लिए हम पूर्णतः प्रतिबद्ध हैं। यही कारण है कि यहां रेल और रोड के साथ ही एयरपोर्ट पर भी काम किया जा रहा है। एक तरफ हम झारखंड के विकास के लिए समर्पित हैं, वहीं दूसरी तरफ झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस के लोग घुसपैठियों के साथ खड़े हैं, लेकिन हमारा स्पष्ट मत है कि हम देश में एक-एक घुसपैठिये की पहचान करेंगे।

उन्होंने कहा कि राष्ट्र रक्षा जैसे विषयों पर भी कांग्रेस और महामिलावटियों के मुंह पर ताला लग गया है। आतंकवाद ऐसी चुनौती है जिसका कड़ाई से मुकाबला जरूरी है, लेकिन कांग्रेस की नीतियां ऐसी रही हैं कि वो आतंकवाद और नक्सलवाद को कुचल नहीं सकती। पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस अब देशद्रोह का कानून भी खत्म करना चाहती है। कांग्रेस पत्थरबाज़ों, आतंकियों, उनके समर्थकों, नक्सलियों और उन्हें खाद पानी देने वालों को खुली छूट देना चाहती है। भा Iजपा इन्हें ऐसा कतई करने नहीं देगी।

हम नयी रीति-नयी नीति पर चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण में 19 मई को झारखंड के संथाल की तीन लोकसभा सीट गोड्डा, दुमका और राजमहल में मतदान है। 2014 के चुनाव में भाजपा को सिर्फ एक गोड्डा लोकसभा सीट पर विजय मिली थी। अबकी तीनों सीटों पर झामुमो (झाऱखंड मुक्ति मोर्चा), कांग्रेस और झाविमो (झारखंड विकास मोर्चा) महागठबंधन बनाकर चुनाव लड़ रहा है। गोड्डा से भाजपा के निशिकांत दुबे, दुमका से सुनील सोरेन और साहिबगंज से हेमलाल मुर्मू चुनाव लड़ रहे हैं। चुनाव में भाजपा की जीत होगी। यह जनता ने तय कर दिया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper