पान मुंह के जायके को बदलने के साथ कई बीमारियों में भी देता है राहत

नई दिल्ली। पान का नाम सुनते ही हमारे मन में एक माउथफ्रेशनर का ख्याल आता है। अक्सर किसी भी बड़े समारोह का अंत पान के बिना पूरा नहीं समझा जाता है। कई लोग शौकिया भी पान खाते हैं लेकिन क्या आपको पता है कि पान खाने से सिर्फ आपके होठ ही लाल नहीं होते हैं बल्कि इसके कई तरह की बीमारियों का इलाज और चोट में भी राहत मिलती है। आइए इसके बारे में हम आपको बता रहे हैं।

-अगर आपको पायरिया की समस्या है और इसकी वजह से आपको शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है तो आप पान में कपूर डालकर दिन में 2 से 3 बार खाने से इससे राहत मिलती है। बस इसमें आपको एक बात का ख्याल रखना है कि पान की पीक पेट में नहीं जाना चाहिए।

-दूसरी समस्या के अनुसार अगर आप किडनी की समस्या से जूझ रहे हैं तो ऐसे में भी पान खाने से आपको राहत मिल सकती है।

-पान से सिर्फ मुंह से जुड़ी बीमारी में ही राहत नहीं मिलती है बल्कि चोट लगने पर भी पान को सेंककर बांधने से भी काफी लाभ मिलता है।

-खांसी आने पर पान में अजवाइन डालकर चबाने से लाभ होता है।

-जले पर पान लगाने से भी फायदा मिलता है।

-छाले पड़ने पर पान के रस को देशी घी से लगाने पर प्रयोग करने से फायदा होता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper