पापी मनुष्य को नहीं छूता भारत का यह रहस्मयी झरना – विदेशों से भी आते है लोग इसे देखने!

आज हम आपको एक ऐसे झरने के बारे में बताने जा रहे है जिससे पापी लोग दूर रहते है। इस बात पर शायद आप विश्वास ना करे लेकिन यह सच है, इस झरने का पानी पापी लोगों पर नहीं गिरता यह झरना दिखने में जितना ज्यादा खूबसूरत है उतना ही रहस्यमयी है। तथा लोग इसे दूर-दूर से देखने आते है।

इस झरने के बारे में बहुत ही कम लोग जानते है। देवभूमि उत्तराखंड में कई रहस्यमयी और पवित्र स्थान है। यहाँ पर लोगो की आस्था जुड़ी हुई है। यह धार्मिक तीर्थ स्थल के अलावा बहुत से खूबसूरत झरनों के लिए जाना जाता है। यहाँ पर आपको प्रकृति की खूबसूरत झलक देखने को मिलेगी। इनमें से एक झरना ऐसा भी है जिससे पापी व्यक्ति दूर रहते है चलिए जानते है अब इस झरने के बारे में।

यह स्थान बद्रीनाथ से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर वसुंधरा झरना है। जो अपने आप में बहुत से रहस्य समेटे हुए है। यह झरना 400 फिट की ऊंचाई से गिरता है। इसकी जलधारा गिरते समय मोतियों के समान नजर आती है।

वसुंधरा झरने की खूबसूरती बहुत ही बेहतरीन है। लेकिन इसके नीचे जो भी व्यक्ति जाता है उनमें से सभी पर इसकी जलधारा नहीं गिरती है। इसकी जलधारा पापी लोगों पर नहीं गिरती है। ग्रंथो के अनुसार यहाँ पर पंच पांडव में से सहदेव ने अपने प्राण त्यागे थे।

ऐसा माना जाता है की इस झरने के पानी की बूंद आप पर गिर जाये तो आप एक पुण्य आत्मा है। इस वजह से यहाँ दूर-दूर से श्रद्धालु आते है। और इस चमत्कारिक झरने के नीचे खड़े होते है। और यह भी माना जाता है की इस झरने का पानी बहुत सी जड़ी-बूटियों के पौधों को छूकर आता है। और यह पानी जिस पर भी गिरता है वह निरोगी हो जाता है।

यह झरना हमारे देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी प्रसिद्ध है। जो भी श्रद्धालु बद्रीनाथ जाते है वह इस झरने को देखने ज़रुर जाते है। दूसरे देश के लोग भी इस झरने को देखने यहाँ आते है। यह झरना इसकी खूबसूरती के लिए भी जाना जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper