पिथौरागढ़ में बादल फटने से तबाही, 3 की मौत, 9 लोग लापता

नई दिल्ली: उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में बादल फटने से कई घर जमीं दोज हो गए हैं. पहाड़ से अचानक आए मलबे में कई घर दब गए. साथ ही पानी के बहाव कई लोगों के बहने की भी खबरें हैं. जानकारी के मुताबिक यहां तीन लोगों की मौत हो गई है और 9 लोग लापता हैं. मौसम विभाग की मानें तो यहां अगले दो दिनों तक भारी बारिश परेशानी का सबब बन सकती है. रविवार की रात हुई भारी बारिश के बाद यहां मुनस्यारी के टागा गांव और बंगापानी के गेला गांव मे बादल फटने से तबाही मच गई. कई घर देखते ही देखते जमींदोज हो गए. गेला गांव में 3 लोगों के घर के मलबे में दबने से मौत हो गई वहीं, यहां 3 अन्य घायल हो गए.

इसके अलावा टागा में 9 लोग लापता हैं और एक व्यक्ति घायल के घायल होने की खबर है. बादल फटने के बाद रास्ते के बह जाने से यहां के लोग गांव में ही फंस गए हैं. उनके बाहर किसी भी इलाके से जुड़ने का कोई रास्ता नहीं बचा है. घटना के बाद राहत-बचाव कार्य टीम को घटनास्थल के लिए रवाना कर दिया गया है. उत्तराखंड में भारी बारिश से नदियां उफान पर हैं. सबसे ज्यादा नुकसान मुनस्यारी में एक पुल पानी में समा गया. मुनस्यारी में चीन सीमा तक जाने वाली मेलम सड़क को भी काफी नुकसान पहुंचा है. कई जगहों पर इस सड़क में दरार आ गई है. हाल ही में इस सड़क की मरम्मत की गई थी. मेलम रोड के टूट जाने से गांववालों के साथ-साथ सेना को भी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है.

उत्तराखंड के अलावा हिमाचल में भी भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है. शिमला मौसम विज्ञान केंद्र ने 24 जुलाई तक राज्य में बारिश की आशंका जताई है. मौसम विभाग के अधिकारी ने कहा कि सोमवार को बहुत भारी बारिश के लिए ‘आरेंज’ अलर्ट और मंगलवार को भारी बारिश के लिए ‘यलो अलर्ट’ जारी किया गया है. विभाग ने कहा कि राज्य के मैदानी भागों, कम ऊंची और मध्यम पहाड़ियों में अगले 3 दिनों में बहुत भारी बारिश होने की संभावना है.

इससे पहले शनिवार को भी उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में भारी बारिश के बाद गोरी नदी के पानी में 4 घर बह गए. यहां बंगापानी सब डिवीजन के चौरी बागर गांव में शनिवार रात भारी बारिश से उफनाई गोरी नदी के पानी में चार मकान, कुछ मवेशी और खेती की जमीन बह गई. हालांकि लोगों को वहां से पहले ही बाहर निकाल लिया गया था.

प्रभावित परिवारों को मुआवजे के रूप में 1.19 लाख रुपये की राशि के अलावा 20 किलोग्राम राशन और अन्य जरूरी सामान मुहैया कराया गया. सीमावर्ती जिले के बंगापानी, मुनस्यारी और धारचूला के जिला मुख्यालय को जोड़ने वाले सभी मुख्य मोटर मार्ग बारिश के कारण बंद हैं. तवाघाट से लिपुलेख सड़क तीन स्थानों पर बंद है, जबकि जौलजीबी से मुनस्यारी और मुनस्यारी से थल तक के मार्ग सड़कों पर मलबा आने के कारण दो स्थानों पर बंद हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper