पीएम मोदी ने किया विपक्ष पर वार तो वाजपेयी के भांजे ने किया मोदी पर वार

अखिलेश अखिल

लखनऊ ट्रिब्यून दिल्ली ब्यूरो: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद में करीब डेढ़ घंटे तक विपक्ष पर वार करते रहे और अपनी सरकार की योजना को बताते रहे। संसद में कांग्रेस मूर्छित होती रही और बीजेपी सांसद थपकी बजाते रहे। लेकिन पीएम मोदी जब कांग्रेस पर वार करते ,उसकी योजनाओं की बखिया उधेड़ते तो कांग्रेस समेत तमात विपक्षी हल्ला मचाते। लेकिन पीएम रुकते क्यों ?

तमाम हो हल्ला के बाद भी मोदी जी अपने रौ में बोलते गए। लेकिन संसद का नजारा उस समय देखने को बना जब बीजेपी सांसद और पूर्व प्रधान मंत्री अटल विहारी वाजपेयी के भांजा अनूप मिश्रा मोदी सरकार को कठघरे में खड़ा कर गए। बीजेपी सांसद भी भौचक सब देख रहे थे और अनूप मिश्रा बोलते जा रहे थे। अनूप मिश्रा की बोली विपक्ष को मधुर लग रही थी। मिश्रा के भाषण पर विपक्ष मजा ले रहा था।

भाजपा सांसद अनूप मिश्रा ने कहा है कि मोदी के सपने देखने से लोगों को फायदा नहीं होगा। केंद्र सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन पर निगरानी की कमी की वजह से प्रधानमंत्री के सपने साकार नहीं होंगे। अटल बिहारी वाजपेयी के भांजे और मध्यप्रदेश के मुरैना से सांसद अनूप मिश्रा ने आगे कहा, ‘प्रधानमंत्री कितने ही सपने देख लें। अगर योजनाएं धरातल पर नहीं उतरतीं, तो आम आदमी को कोई फायदा नहीं होने वाला। ’

इससे पहले उन्होंने देश में योजनाओं के मूल्यांकन को लेकर अपने पूरक प्रश्न में पूछा कि मोदी सरकार इतनी योजनाएं चला रही है, लेकिन उनमें जवाबदेही तय नहीं की जाती। उन्होंने कहा कि योजनाओं पर निगरानी जरूरी है, जिससे जनता को लाभ मिल सके। मिश्रा ने अपने प्रश्न पर योजना मंत्री के उत्तर पर असंतोष प्रकट करते हुए अपने संसदीय क्षेत्र में कुछ योजनाओं पर अमल का उदाहरण दिया। कहा, ‘योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए कौन जिम्मेदार है। जवाबदेही किसकी है। ’

योजना मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने अपने उत्तर में कहा कि सरकार के मंत्रालय अपनी योजनाओं का मूल्यांकन करते हैं। जवाबदेही तय होती है, तभी मूल्यांकन होता है। मंत्री के जबाब से सांसद खुश नहीं हुए और मुँह बनाकर बैठ गए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper