पीएम मोदी ने पाकिस्तान पर साधा निशाना, अनुच्छेद 370 पर कदम पटेल को समर्पित

केवड़िया: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए कहा कि वह भारत से युद्ध में नहीं जीत सकता इसलिए भारत की अखंडता को चुनौती दे रहा है। मोदी ने पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा, “आज राष्ट्रीय एकता दिवस के मौके पर मैं देश के सामने मौजूद इस चुनौती को हर नागरिक को याद दिला रहा हूं। जो हमारे साथ युद्ध में नहीं जीत सकते, वे हमारी एकता को चुनौती दे रहे हैं।”

प्रधानमंत्री ने देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की 144वीं जयंती पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा, “हालांकि, वे भूल जाते हैं कि सदियों तक इसी तरह के प्रयासों के बावजूद कोई भी हमें मिटा नहीं सका था, हमारी एकता को नहीं हरा सका था।” भारत के लौह पुरुष की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “सरदार वल्लभभाई पटेल के आशीर्वाद से देश ने कुछ हफ्तों पहले इन ताकतों को हराने के लिए एक बहुत बड़ा फैसला लिया है। अनुच्छेद 370 ने जम्मू एवं कश्मीर को अलगाववाद और आतंकवाद के अलावा कुछ नहीं दिया।”

प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार ने 5 अगस्त को संसद के माध्यम से अनुच्छेद 370 को रद्द करते हुए जम्मू एवं कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस ले लिया था और प्रदेश को दो केंद्र शासित प्रदेश जम्मू एवं कश्मीर और लद्दाख में विभाजित कर दिया था। 31 अक्टूबर (गुरुवार से) यह निर्णय प्रभाव में आया है। भारत को एकजुट करने के सरदार पटेल के प्रयासों की प्रशंसा करते हुए मोदी ने यह ‘बड़ा फैसला’ पटेल को समर्पित किया। प्रधानमंत्री ने दावा किया कि अगर पटेल को इस मामले से निपटने की अनुमति दी गई होती, तो कश्मीर मुद्दे को हल करने में इतना समय नहीं लगता।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “सरदार पटेल ने एक बार कहा था कि अगर कश्मीर का मुद्दा उनके पास रहता, तो इसे हल करने में इतना समय नहीं लगता। आज उनकी जयंती के मौके पर मैं अनुच्छेद 370 हटाने का निर्णय सरदार साहब को समर्पित करता हूं।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper