पीठासीन सभापति पर आजम ने की टिप्पणी, लोस में हंगामा

नई दिल्ली: लोकसभा में तीन तलाक पर रोक लगाने के प्रावधान वाले विधेयक पर र्चचा के दौरान बृहस्पतिवार को उस समय विवाद की स्थिति बन गयी जब पीठासीन सभापति रमा देवी को लेकर समाजवादी पार्टी नेता आजम खान की एक टिप्पणी पर भाजपा सदस्यों ने जोरदार विरोध जताया और उनसे माफी की मांग की। आजम खां समेत सपा और बसपा के सदस्यों ने इस मुद्दे पर सदन से वाकआउट किया।आजम खान जब ‘‘मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक, 2019’ पर सदन में हो रही र्चचा में भाग ले रहे थे तो पीठासीन सभापति रमा देवी ने उनसे आसन की ओर देखकर बोलने को कहा।

इस पर खान ने कुछ ऐसी आपत्तिजनक टिप्पणी की जिस पर भाजपा के सदस्यों ने जोरदार विरोध किया। पीठासीन सभापति रमा देवी भी कहते सुनी गयीं कि यह बोलना ठीक नहीं है और इसे रिकॉर्ड से हटाया जाना चाहिए। उन्होंने इसके लिए आजम खान से माफी मांगने को भी कहा। हालांकि आजम खान ने उन्हें संबोधित करते हुए कहा, आप मेरी प्यारी बहन हैं।बहरहाल, भाजपा के सदस्य माफी पर अड़े रहे और टीका-टिप्पणी जारी रही। कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, संसदीय कार्य राज्य मंत्री अजरुन राम मेघवाल, वन और पर्यावरण राज्यमंत्री बाबुल सुप्रियो तथा गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने आसन से मांग की कि सपा सदस्य आजम खान को अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगने का निर्देश दिया जाना चाहिए।

सदन में जोरदार हंगामे के बीच आसन पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला पदासीन हुए। उन्होंने बीच बीच में टिप्पणी कर रहे भाजपा सदस्यों से भी इत्तेफाक नहीं जताते हुए कहा कि आप संख्या में बड़े हो सकते है, लेकिन सदन सबकी सहमति से चलता है। इस पर विपक्षी सदस्यों ने मेजें थपथपाकर स्वागत किया।आजम खां ने कहा, मैंने कहा था कि मेरी बहुत प्यारी बहन हैं। मेरी लंबी राजनीतिक जिंदगी रही है और मैंने कभी कोई ऐसी बात नहीं की। उन्होंने कहा, अगर मैंने एक भी असंसदीय शब्द कहा हो तो मैं आज ही इस्तीफा देता हूं। बिरला के कहने पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सदन में अपनी बात रखते हुए कहा कि खान ने कोई असंसदीय बात नहीं की है। इसी दौरान यादव भी एक शब्द का इस्तेमाल कर गए जिसे स्पीकर ने असंसदीय करार दिया।

इस पर यादव ने कहा कि सत्तापक्ष की तरफ से किसी ने उनके खिलाफ यह शब्द बोला और उन्होंने जवाब में फिर उसी शब्द का इस्तेमाल किया। इसके बाद बसपा के दानिश अली ने आरोप लगाया कि विधेयक पर र्चचा के दौरान सत्तापक्ष के सदस्यों ने उन्हें बोलने नहीं दिया। अली सदन से वाकआउट कर गए। इसके बाद आजम खान भी कहते सुने गये कि अपमानित होकर बोलने से क्या हासिल। सपा नेता अखिलेश यादव उनसे बोलने के लिए कहते रहे लेकिन आजम खां भी अपने स्थान से उठकर चले गये। इसके बाद सपा और बसपा के सभी सदस्य सदन से बाहर चले गये।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper