पीड़िता ने किया खुलासा, दाती की रात्रि सेवा में जाने से पहले लड़कियों का किया जाता था ब्रेनवॉश

जयपुर: शिष्या के साथ दुष्कर्म के आरोप में फंसे दाती महाराज उर्फ मदन राजस्थानी पर आरोप लगाने वाली पीड़िता ने बताया कि दाती महाराज के पास जाने के पहले आश्रम में लड़कियों का ब्रेनवॉश किया जाता थी। दूसरी ओर, महिला आयोग की टीम ने गुरुवार को दाती के आश्रम का निरीक्षण किया और आश्रम में मौजूद लड़कियों से बातचीत कर वास्तविक स्थिति का पता लगाने की कोशिश की।

दुष्कर्म पीड़िता ने गुरुवार को आरोप लगाया था कि दाती महाराज ने अपने आश्रम की कई लड़कियों के साथ दुष्कर्म किया है। पीड़िता ने कहा मेरी जानकारी में ऐसी कई लड़कियां हैं, लेकिन वे डर से सामने नहीं आ रही हैं। मेरे सामने बहुत सारी लड़कियां रात्रि सेवा के लिए दाती के पास जाती थीं। पहले मुझे इसका अंदाजा नहीं था कि वहां क्या हो रहा है। लेकिन जब मैं स्वयं इसकी शिकार हुई, तो मुझे हकीकत का पता चला और मैं सदमे में आ गई।

पीड़िता के अनुसार आश्रम की डायरेक्टर भी इसमें शामिल हैं। वही दाती महाराज के पास लड़कियों को लेकर जाती थीं। उसने बताया कि दाती महाराज के पास ले जाने के पहले मेरा ब्रेनवॉश किया गया था। इसलिए मुझे ऐसा लगता रहा कि वह जो भी कह रहा है वो सही कह रहा है। जब मैं स्वयं उसकी शिकार हुई तो मुझे वहां से भागना पड़ा। अगर मैं उसे सजा नहीं दिला पाऊंगी तो मेरा जमीर मुझे चैन से जीने नहीं देगा।

पीड़िता ने कहा कि आश्रम में लड़कियों के लिए अलग नियम है। उन्हें परिवार से मिलने नहीं दिया जाता, लेकिन खुद दाती महाराज परिवार के साथ रहते हैं। उधर राजस्थान महिला आयोग की टीम ने गुरुवार को दाती के पाली स्थित आश्रम का निरीक्षण किया।

टीम यहां चार घंटे से भी ज्यादा समय तक रही। महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा ने बताया कि हमने टीम को आश्रम के दस्तावेजों, इसे मिली मान्यता, वहां मौजूद लड़कियों की संख्या और उनके रहन-सहन और अन्य स्थितियों के बारे में पूरी रिपोर्ट तैयार करने को कहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper