पुदीने की चाय पीने से तेज़ होता है दिमाग , जाने और भी कई फायदे

लंदन। अगर आप बमुश्किल किसी चीज को याद रख पाते हैं, तो पीजिए पुदीने की चाय, क्योंकि एक Research के अनुसार पता चला है कि पुदीने की चाय स्वस्थ वयस्कों की याददाश्त लम्बे समय तक के लिए सुधार सकती है।

इस Research के लिए अध्ययनकर्ताओं ने 180 प्रतिभागियों को पुदीने की चाय और कैमोमिल (बबूने का फूल) की चाय और गर्म पानी का सेवन करा है। शोध के परिणामों से पता चला है कि कैमोमिल और गर्म पानी का सेवन करने वालो की तुलना में जिन –जिन प्रतिभागियों ने पुदीने की चाय का सेवन किया था, उनकी दीर्घकालिक स्मरणशक्ति और सतर्कता में महत्वपूर्ण सुधार दिखे है।

वहीं पर कैमोमिल चाय का सेवन करने वाले प्रतिभागियों में पुदीने की चाय और गर्म पानी का सेवन करने वालेप्रतिभागियों की तुलना में (Memory) और एकाग्रता की क्षमता में काफी हद तक कमी महसूस की गई। इस Research को हाल ही में नॉटिंघम में आयोजित साइकोलॉजिकल सोसाइटी के वार्षिक सम्मेलन में पेश किया गया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper