पुरुषों को रात में जरूर पीना चाहिए एक गिलास दूध, होंगे ये 9 बड़े फायदे

वैसे तो दूध पीना सेहत के लिए फायदेमंद है। लेकिन नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद, जम्मू के डॉ. निखिल शर्मा के अनुसार सुबह की तुलना में रात को दूध पीने से कई हॉर्मोन्स अधिक इफेक्टिव रूप से काम करते हैं। खासकर पुरुषों में इसका असर ज्यादा होता है। दूध में Tryptophan होता है जो बॉडी को रिलैक्स करता है।

रात को सोने के पहले दूध पीने से नींद अच्छी आती है। रात को दूध पीने से मेटाबॉलिज्म की प्रोसेस फास्ट होती है। इससे वजन तेजी से कम होता है। दूध हेवी होता है। सुबह के वक्त दूध पीने से कब्जियत हो सकती है। इसलिए एक्सपर्ट भी रात में दूध पीने की सलाह देते हैं।

जानिए इसके 9 फायदे

अच्छी नींद लाने में हेल्पफुल – दूध में पाया जाने वाला ट्रिप्टोफेन नामक अमीनो एसिड दिमाग को शांत करके स्ट्रेस दूर करता है. नींद अच्छी आती है
बेहतर डाइजेशन में हेल्पफुल – दूध में मौजूद पानी डाइजेस्तिव ट्रेक्ट की सफाई करके डिनर में खाए स्पाइसी फ़ूड को डाईजेस्ट होने में मदद करता है
स्ट्रेस से बचाव – जापान में हुई रिसर्च के मुताबिक दूध में मौजूद कैल्शियम स्ट्रोक से बचाव है
ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल – दूध में मौजूद कैल्शियम, पोटैशियम और मैग्नीशियम जैसे मिनरल्स ब्लड प्रेसर को कण्ट्रोल करके हाई बीपी की प्रॉब्लम से बचाते है
मसल्स बिल्डिंग – दुष में सेसिन और व्हे प्रोटीन होते है. जो मसल्स को स्ट्रोंग बनाते है. बॉडी बिल्डिंग के लिए ये प्रोटीन जरुरी है
मजबूत हड्डियाँ – एक ग्लास दूध में पुरुषों की रोज की जरुरत का 37% कैल्शियम होता है. इससे हड्डियाँ मजबूत रहती है
एनर्जी और ताजगी – दूध में मौजूद कैल्शियम, सोडियम और पोटैशियम जैसे इलेक्ट्रोलाइट बॉडी को एनर्जी और ताजगी देते है
फैट बर्निंग – दूध में मौजूद कैल्शियम, मिल्क प्रोटीन के साथ मिलकर फैट बर्निंग प्रोसेस को तेज करता है. इससे मोटापे से बचाव होता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper