पुलवामा हमला के बाद सरकार का बड़ा फैसला, हुर्रियत नेताओं की सुरक्षा वापस होगी : सूत्र

नई दिल्ली: पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों की शाहदत के बाद देश में गम के साथ-साथ गम का माहौल है। इस बीच खबरें है कि भारत सरकार इस दिशा में कुछ बड़े कदम उठाने जा रही है। सूत्रों के हवाले से खबरें आ रही हैं कि सरकार ने कश्मीर के हुर्रियत नेताओं की सुरक्षा वापसी के आदेश दिए हैं। बताया जा रहा है कि सीसीएस यानी कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी की बैठक में पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने को लेकर कई फैसले हुए हैं। इसके साथ ही डिफेंस से लेकर डिप्लोमेट लेवल पर पाकिस्तान की घेराबंदी करनी की बात कही गई।

बता दें कि पुलवामा हमले के बाद श्रीनगर गए गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि पाकिस्तान और आई.एस.आई. से आर्थिक मदद लेने वालों की सरकारी सुरक्षा पर भी नए सिरे से विचार किया जाएगा। इसी बयान के बाद हुर्रियत नेताओं से सुरक्षा छीने जाने की खबर आई हैं।

पुलवामा आतंकी हमला: फिर से सर्जिकल सट्राइक कर सकता है भारत!

जवानों की शहादत के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने भी पाकिस्तान को सीधी चेतवानी देते हुए कहा है कि हमारे सुरक्षाबलों को पूर्ण स्वतंत्रता दे दी गई है। हमें अपने सैनिकों के शौर्य पर और उनकी बहादुरी पर पूरा भरोसा है। देशभक्ति के रंग में रंगे लोग सही जानकारियां भी हमारी एजेंसियों तक पहुंचाएंगे ताकि आतंक को कुचलने में हमारी लड़ाई और तेज हो सके। शुक्रवार की रात दिल्ली के पालम एयरपोर्ट पर पीएम मोदी समेत कई हस्तियों ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper