पुलवामा हमला से दुनिया स्तब्ध , सभी ने की इस हमले कड़ी निंदा 

दिल्ली ब्यूरो: दुनिया भर के समर्थ देशों ने पुलवामा घटना की कड़ी निंदा की है और आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होकर उसके सफाये की बात कही है। रूस, फ्रांस और अमेरिका समेत दुनियाभर के देशों ने कहा है कि आतंकवाद के खतरे से लड़ने के लिए वे भारत के साथ खड़े हैं।

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में बृहस्पतिवार को जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने विस्फोटकों से लदे वाहन से सीआरपीएफ जवानों की बस को टक्कर मार दी, जिसमें कम से कम 46 जवान शहीद हो गए और कई गंभीर रूप से घायल हो गए। अमेरिका ने आतंकी हमले की निंदा की और कहा कि आतंकवाद को परास्त करने में उसका रुख भारत के साथ है।

भारत में अमेरिका के राजदूत केनेथ जस्टर ने ट्वीट कर कहा, ‘‘भारत में अमेरिकी दूतावास जम्मू- कश्मीर में बृहस्पतिवार के आतंकी हमले की कड़ी निंदा करता है।पीड़ितों के परिवारों के प्रति हम शोक संवेदना व्यक्त करते हैं। उधर ’रूस ने आतंकी हमले की निंदा की और बिना किसी दोहरे मानदंड के एक निर्णायक और सामूहिक प्रतिक्रिया के साथ ऐसे ‘अमानवीय कृत्यों’ का सामना करने की जरूरत पर जोर दिया।

भारत में फ्रांस के राजदूत अलेक्जेंड्रे जिगलर ने कहा कि फ्रांस जम्मू-कश्मीर में हुए जघन्य हमले की कड़ी निंदा करती है। जबकि जर्मनी ने जघन्य आतंकी हमले की निंदा की और कहा वह अपने रणनीतिक सहयोगी भारत के साथ खड़ा है। .आस्ट्रेलिया, तुर्की और चेक गणराज्य ने भी आतंकवादी हमले की निंदा की है। भारत के पड़ोसी देश बांग्लादेश, भूटान, श्रीलंका और मालदीव ने भी एकजुटता व्यक्त की है और संयुक्त रूप से आतंकवाद के खतरे का सामना करने का संकल्प जताया।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा की और हमले के पीछे के लोगों को न्याय के दायरे में लाने की अपील कीहै। अमेरिका के शीर्ष सांसदों ने भी जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकवादी हमले की निंदा की है और कहा है कि अमेरिका ‘आतंक का सामना करने और उसे हराने’ के लिए भारत के साथ खड़ा है।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper