पुल हादसा: सेतु निगम के अफसरों के खिलाफ सिगरा थाने में मुकदमा दर्ज

वाराणसी: कैंट फ्लाईओवर हादसे में 18 लोगों की हृदय विदारक मौत के बाद जिला प्रशासन सेतु निगम के अफसरों, ठेकेदारों के खिलाफ एक्शन मोड में आ गया है। हादसे के दूसरे दिन बुधवार को रोडवेज चौकी इंचार्ज की तहरीर पर यूपी सेतु निगम के अधिकारियों, पर्यवेक्षण कर रहे अधिकारियों ,ठेकेदारों के खिलाफ सिगरा थाने में दफा 304 और 308 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

माना जा रहा है कि हादसे के लिए विभाग के अफसरों की लापरवाही ही जिम्मेदार है। अफसरों की लापरवाही से क्षुब्ध सूबे के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने देर रात ही परियोजना के चीफ प्रॉजेक्ट मैनेजर एचसी तिवारी, प्रॉजेक्ट मैनेजर के. एस सूदन, सहायक अभियंता राजेंद्र सिंह और अवर अभियंता लालचंद को निलम्बित कर दिया।

कैंट लहरतारा फ्लाईओवर दुर्घटना में मृत 15 लोगों में से 13 लोगों के शवों को बुधवार को उनके परिजनों को सौंप दिया गया। शव में दो शव एनडीआरएफ के जवानों का है उनके यूनिट के लोग इन शवों को प्राप्त करेंगे। कमिश्नर दीपक अग्रवाल, जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र, वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ सुबह से ही मर्चरी हाउस पर मौजूद रहे । दावा किया गया कि सभी 13 शवों को जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराए गए वाहनों से परिजनों के साथ रवाना किया गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper