पूर्व कप्तान अनूप ने कबड्डी से लिया संन्यास

पंचकूला: अपनी कप्तानी में भारतीय कबड्डी टीम को 2016 में विश्व कप खिताब दिलाने वाले पूर्व कप्तान और दिग्गज खिलाड़ी अनूप कुमार ने बुधवार को खेल से संन्यास लेने की घोषणा कर दी। प्रो-कबड्डी लीग (पीकेएल) के छठे सीजन में पंचकूला लेग के दौरान 36 वर्षीय अनूप ने यहां संन्यास लेने की घोषणा की। वह इस समय पीकेएल में जयपुर पिंक पैंथर्स की कप्तानी कर रहे हैं।

हालांकि, उनकी टीम प्लेऑफ के दौर से बाहर हो चुकी है। वह इस सीजन में जयपुर पिंक पैंथर्स के हाथों 30 लाख रुपए में बिके थे। अनूप ने कहा, “जब मैंने कबड्डी खेलना शुरू किया था, तब मैंने इसे अपना समय इसलिए दिया क्योंकि यह एक शौक था और कुछ वर्षो में शौक मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया। जिस दिन से मैंने पेशेवर तौर पर कबड्डी को चुना, उस दिन से मेरा एक ही सपना रहा है और वो है अपने देश के लिए खेलना और स्वर्ण पदक लेकर आना।”

अनूप ने कहा, “मैं उन चुनिंदा लोगों में से हूं जिन्हे अपने जीवन के सबसे महत्वपूर्ण सपने को सच्च करने का मौका मिला। आज प्रो-कबड्डी लीग के साथ खेला काफी बड़ा हो गया है और मैं इस सफर का हिस्सा बनकर बहुत खुश हूं। यह मेरे जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है इसलिए मैं अपने संन्यास की घोषणा करने के लिए इस मंच का उपयोग कर रहा हूं। संयोग से आज मेरे बेटे का 10वां जन्मदिन भी है, जो इस दिन को और भी यादगार बनाता है।”

वर्ष 2006 में हुए दक्षिण एशियाई खेलों में पदार्पण करने वाले अनूप 2010 और 2014 में एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा रह चुके हैं। उनकी कप्तानी में 2016 में भारतीय टीम ने कबड्डी विश्व कप जीता था। उसी साल भारत ने दक्षिण एशियाई खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता था। उन्हें 2012 में अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

अनूप ने पीकेएल में भी शानदार प्रदर्शन किया। उन्होंने अपनी कप्तानी में सीजन-2 में यू मुंबा को चैम्पियन बनाया था। उन्होंने पीकेएल के सभी सीजन में कुल मिलाकर 91 मैच खेले, जिसमें उनके नाम 596 अंक हैं ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper