पेट्रोल के दामों में मामूली कमी कर ध्यान भटका रही भाजपा : कांग्रेस

लखनऊ। कांग्रेस ने केन्द्र व प्रदेश सरकार की ओर से पेट्रोल व डीजल के दाम घटाने पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि भाजपा सरकार ने पेट्रोल के दामों में मामूली कमी कर जनता का ध्यान भटकाने का काम किया है। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता ओंकार नाथ सिंह ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि पेट्रोल, डीजल, गैस व अन्य पेट्रोलियम पदार्थो के मूल्यों में बेतहाशा वृद्धि से आम जनता का आक्रोश भाजपा के प्रति है। इस आक्रोश को कम करने के लिए सरकार यह कदम उठा रही है।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 में जब कांग्रेस की सरकार के समय तेल के जो दाम थे भाजपा को उस दाम पर तेल बेचना चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार के समय पेट्रोल पर 9.23 रुपये प्रति लीटर व डीजल पर 3.46 रुपये प्रति लीटर एक्साइज डय़ूटी थी जो इनके समय में बढ़कर पेट्रोल पर 19.28 रुपये व डीजल पर 15.33 रुपये प्रति लीटर कर दी गयी। कांग्रेस के समय में कच्चे तेल का मूल्य औसत सौ डालर प्रति बैरल था और भाजपा के समय में 58 डालर प्रति बैरल दाम है फिर भी तेल इतने अधिक मूल्य पर बेचा जा रहा है।

विवेक तिवारी की हत्या के आरोपी प्रशांत चौधरी के समर्थन में ब्लैक डे मना रहे पुलिसकर्मी!

भाजपा सरकार ने इन 52 महीनों में देश की जनता से 13 लाख करोड़ रुपये एक्साइज डय़ूटी के रूप में वसूले हैं। उन्होंने कहा कि एक आरटीआई में स्वयं सरकार ने कबूल किया है कि 15 देशों को 34 रुपये प्रति लीटर पर पेट्रोल व 29 देशों को 37 रुपये प्रति लीटर पर डीजल बेचा है तो देश की जनता को इतने महंगे दाम पर क्यों पेट्रोल व डीजल बेचा जा रहा है। श्री सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार कहती है कि राज्य सरकारें इस पर एक्साइज डय़ूटी व वैट कम करें लेकिन सबसे ज्यादा वैट गुजरात, महाराष्ट्र, असम, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ आदि भाजपा शासित प्रदेशों में ही वसूला जा रहा है। यह देश की जनता के साथ सिर्फ छलावा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper