पौधों में होता हैं प्रदूषण के कणों को सोखने का गुण

नई दिल्ली: पालमपुर स्थित काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च-इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन बायो रिसोर्स टेक्नोलॉजी में एक अध्ययन ‎किया गया है। ‎जिसमें कुछ पौधो का पता लगाया है, जो कि हवा में मौजूद प्रदूषण के कणों को सोख लेते हैं। बता दें ‎कि सीएसआइआर-आइएचबीटी पालमपुर ने ऐसे 12 पौधों को खोज निकाला है, जिनमें इस प्रकार के गुण पाए गए हैं।

इनमें एलोवेरा, एरिका पाम, बारवटन-डेजी (जरबेरा डेजी), बोस्टोन-फरन, गुलदाउदी, फिलोडेनड्रोन, इंग्लिश-आइवी, पीस लिली, रबर प्लांट, स्नेक प्लांट, लघु सेंसेवेरिया व वीपिंग फिग शामिल हैं। वैज्ञानिकों ने बताया कि घर में इस्तेमाल होने वाली आम रोजमर्रा चीजें जैसे कि दीवारों के रंग, रेफ्रिजरेटर, माइक्रोवेव, डयोड्रेंट, बूट पॉलिस, अगरबत्ती, गैस, परफ्यूम, बिल्डिंग मैटीरियल, हीटर, इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों व सिगरेट के धुएं से हानिकारक गैसें कार्बन डाइऑक्साइड, बैनजीन, ट्राइक्लोरो थाइलीन, जाइलीन, टॉयलीन और कार्बन मोनोऑक्साइड आदि पैदा होती हैं। हालां‎कि इन गैसों को वोलाटाइल ऑर्गेनिक कंपाउंड नाम दिया गया है।

बताया गया ‎कि वोलाटाइल ऑर्गेनिक कंपाउंड (वीओसी) के कारण आपको कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इससे आंखों की जलन, जुकाम, गले में दर्द, दमा व निमोनिया आदि परेशानियां शामिल हैं। वैज्ञानिकों नें इन बीमारियों को सिक्क बिल्डिंग सिंड्रोम का नाम भी दिया है। वैज्ञानिकों ने बताया ‎कि यदि इन पौधों को घर में लगाया जाए, तो सिक्क बिल्डिंग सिंड्रोम के खतरे से बचा जा सकता है।

इसके अलावा इन पौधों में हानिकारक गैसें सोखने के बाद भी इन पौधों के स्वरूप में कोई बदलाव नहीं होता है। वैज्ञानिक ने बताया कि ये पौधे पत्तों में मौजूद स्टोमेटा के जरिए गैसों को अवशोषित करते हैं और उन्हें जड़ों के माध्यम से मिट्टी तक पहुंचा देते हैं। इस प्रक्रिया को फाइटो रेमिडिएशन कहा जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper