प्यार-संस्कार का बंधन

लखनऊ: भाई-बहन के प्यार का त्योहार रक्षाबंधन इस बार 15 अगस्त को है। रक्षाबंधन हर साल सावन के आखिरी दिन मनाया जाता है। इस त्योहार को देखते हुए बाजार रंग-बिरंगी राखियों से सज गया है। इस बार रक्षाबंधन के दिन राखी बांधने का शुभ मुहूर्त भी काफी लंबा है। राखी बांधने का शुभ मुहूर्त सुबह 5 बजकर 49 मिनट से शुरू होगा और शाम 6.01 बजे तक बहनें अपने भाई को राखी बांध सकती हैं।

ज्योतिष के अनुसार रक्षाबंधन पर भाई की कलाई पर राशि के अनुसार उस कलर की राखी बांधनी चाहिए। राशि के हिसाब से कलर का चुनाव करके बांधी गई राखियां शुभ फल देती हैं। आइए हम आपको बताते हैं कि भाई की राशि के हिसाब से किस रंग की राखी उसके हाथ पर बांधना सबसे ज्यादा शुभ होगा।

मेष : इस राशि के जातक की कलाई पर लाल रंग की राखी बांधना शुभ होगा। इससे भाई के जीवन में उत्साह और ऊर्जा बनी रहेगी। इसके अलावा केसरिया व पीले रंग की राखी भी आप अपने भाई को बांध सकती हैं।
वृषभ : इस राशि के जातक भाई को सफेद या चांदी रंग की राखी शुभ है।
मिथुन : इस राशि के जातक के लिए हरी या चंदन से बनी राखियां शुभ होती हैं।
कर्क : इनके लिए सफेद रेशमी धागे की या मोतियों से बनी राखी शुभ है।
सिंह : इस राशि के जातक को सुनहरी, पीली या गुलाबी रंग की राखी बांधनी चाहिए।
कन्या : कन्या राशि के जातकों के लिए सफेद रेशमी या हरे रंग की राखी शुभ होती है।
तुला : इस राशि को हल्का नीला, सफेद या क्रीम रंग की राखी बांधे। यह शुभ होता है।
वृश्चिक : इस राशि के जातक के लिए गुलाबी, लाल या चमकीली राखी शुभ मानी जाती है।
धनु : इन्हें रेशमी रंग की राखी बांधें। पीली रंग की राखी भी इनके लिए शुभ होती है।
मकर : इन्हें नीले या गहरे नीले रंग की राखी बांधना शुभ होता है।
कुंभ : अगर आपके भाई कुंभ राशि से हैं, तो इन्हें रुद्राक्ष से बनी राखियां बांधें। पीले रंग की राखी भी बांध सकते हैं।
मीन : इस राशि के जातकों को पीले रंग की राखी बांधे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper