प्रज्ञा ठाकुर को धमकी भरे पत्र के साथ आया संदिग्ध रसायन

भोपाल: मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी की सांसद प्रज्ञा ठाकुर को धमकी भरे पत्र के साथ संदिग्ध रसायन आया है। प्रज्ञा ठाकुर ने अपनी जान को खतरा बताया है। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है और सांसद की सुरक्षा बढ़ा दी है। मिली जानकारी के अनुसार, प्रज्ञा ठाकुर के रिवेरा टाउन आवासीय कॉलोनी स्थित आवास पर डाक के जरिए पिछले दिनों एक लिफाफा आया। सोमवार को जब सांसद ने इस लिफाफे को खोला तो उसमें कई पत्रों के साथ एक पैकेट भी निकला। प्रज्ञा ठाकुर के अनुसार, पत्र के भीतर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल की तस्वीरें निकली जिन पर क्रॉस का चिन्ह लगा हुआ था।

प्रज्ञा ठाकुर के मुताबिक, लिफाफे के भीतर से एक पैकेट भी निकला जिसमें पाउडर है। उसे छूने पर खुजली हुई। इस पर उन्होंने पुलिस को शिकायत की। उन्होंने अपनी जान को खतरा होने की बात कही है। सूत्रों के अनुसार, सोमवार की रात को सांसद की ओर से इस पत्र की सूचना दी गई। पत्र उर्दू में लिखा गया है। पुलिस और एफएसएल की टीम जांच कर रही है। साथ ही सांसद की सुरक्षा भी बढ़ा दी गई है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अखिल पटेल ने संवाददाताओं को बताया कि सांसद को यह पत्र अक्टूबर माह में आया था, जिसे सोमवार को खोला। उर्दू में पत्र लिखा हुआ है। पुलिस जांच कर रही है।

सूत्रों का कहना है कि उर्दू में लिखी गई चिट्ठी में आतंकी हाफिज सईद सहित कई अन्य की तस्वीरें बनी हुई है। इसके साथ ही कई अन्य कागज भी इस लिफाफे से निकले है, जिनमें जले हुए तिरंगे की तस्वीर बनी है तो पाकिस्तान का भी झंडा बना हुआ है। सांसद का आरोप है कि पूर्व में भी उन्हें धमकी भरे पत्र मिले हैं, जिसकी पुलिस से शिकायत की मगर पुलिस ने उसे गंभीरता से नहीं लिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper