प्रदूषण से बचने के ‎लिए काफी मददगार होता है गुड़

नई दिल्ली: प्रदूषण से निपटने के ‎लिये घरों में आमतौर पर उपलब्ध रहने वाला गुड़ को काफी इस्तेमाल ‎किया जाता है। दरअसल, गुड़ प्राकृतिक रूप से शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकालता है और गंदगी को साफ करता है। बताया जाता है ‎कि गुड़ भारतीय खानपान का हिस्सा रहा है। काफी लोग खाना खाने के बाद गुड़ जरूर खाते हैं, क्योंकि यह पाचन में मदद करता है। साथ ही शरीर का मेटाबॉलिज्म ठीक रखता है।

गुड़ अस्थमा के रोगियों के लिए फायदेमंद बताया जाता है क्योंकि इसमें ऐंटी-ऐलर्जिक गुण होते हैं। इसमें एक चम्मच मक्खन और हल्दी मिला लें और दिन में 3-4 बार इसका सेवन करने से शरीर में मौजूद जहरीले तत्व को बाहर ‎‎निकलते हैं और उसे टॉक्सिन फ्री भी बनता है। गुड़ को सरसों तेल में मिलाकर खाने से सांस से जुड़ी दिक्कतों से आराम मिलता है।

गुड़ में कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन और कॉपर भी अच्छी मात्रा में मिलते हैं। गुड़ आयरन का प्रमुख स्रोत है और एनीमिया के मरीजों को भी इसके सेवन की सलाह दी जाती हैं। सर्दियों के मौसम की शुरुआत होते ही प्रदूषण का प्रकोप बढ़ने लगता है। इसकी वजह से कई लोगों में अस्थमा, ब्रॉन्काइटिस, पल्मोनरी डिजीज और बच्चों में निमोनिया का खतरा भी बढ़ जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper