प्रदेश की भाजपा सरकार ने जनता का अमन-चैन छीना

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के चलते जनता का अमन- चैन छिन गया है। राज्य के हालात चिंतनीय हो चले हैं। निदरेष मारे जा रहे हैं। आपराधिक धाराओं में फर्जी फंसाकर अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न किया जा रहा है। महिलाओं और छात्राओं के साथ रोजाना दुष्कर्म की घटनाएं हो रही हैं। नौजवान बेकारी से जूझ रहा है।

उन्होंने रविवार को जारी बयान में कहा कि लोकसभा चुनाव के बाद तो जनपदों में सत्ता का घोर दुरुपयोग होने लगा है। किसानों, गरीबों, नौजवानों और अल्पसंख्यकों पर अन्याय हो रहा है। उन्हें अपमानित किया जा रहा है। थानों में पीड़ितों की सुनवाई होती नहीं, उल्टे उनका ही उत्पीड़न किया जाता है। उन्होंने कहा कि भाजपा राज में जनता अपने को असहाय महसूस कर रही है। अखिलेश ने कहा कि भाजपा गौमाता की बात तो जोरशोर से करती है, लेकिन उसकी सरकार में गौशालाओं में सैकड़ों गायें भूख और बीमारी से मर चुकी हैं।

हाल में प्रयागराज में 35 से ज्यादा गायों की मौत हुई। अयोध्या में 30 गायों की मौत हुई। रायबरेली में 24 व सुलतानपुर में दर्जनभर से ज्यादा गायों की मौत हुई। भाजपा सरकार की यह संवेदनहीनता निंदनीय है। गायों और गरीबों की मौत की जिम्मेदारी सरकार पर है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार कानून- व्यवस्था को पटरी पर लाने में असमर्थ है। लखनऊ में आए दिन अपराधी पुलिसकर्मियों पर हाथ उठा रहे हैं। कारोबारी लुट रहे हैं और उनकी हत्या हो रही हैं। लोकतंत्र में सरकारों से जनता का भरोसा उठना खतरनाक है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper