फिर प्याज को लेकर सामने आई आपराधिक घटना, कैमूर में ट्रक चालक को बंधक बनाकर लूटे 51 कुंटल प्याज

भभुआ: बिहार में प्याज की कीमतों में हुई वृद्घि से लोग पिछले एक महीने से परेशान हैं। पिछले एक महीने से बिहार में 100 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से बेची जा रही प्याज के कीमती होने के बाद लुटेरों की नजर प्याज पर भी है। यही कारण है कि बिहार में प्याज और लहसुन की लूट की घटनाएं सामने आ रही हैं।

इसी कड़ी में बिहार के कैमूर जिले के मोहनिया थाना क्षेत्र में लुटरों ने एक ट्रक के चालक को बंधक बनाकर उस पर लदे 102 बोरी प्याज को लूट लिया। पुलिस के एक अधिकारी ने शनिवार को बताया कि ट्रक चालक देशराज ने बताया कि वह इलाहाबाद (प्रयागराज) से जहानाबाद के लिए 102 बोरी प्याज (51 कुंटल) ट्रक पर लेकर जा रहा था, तभी करीब आधा दर्जन हथियारबंद अपराधियों ने मोहनिया के मुठानी डायवर्सन के पास उसे बंधक बना लिया और करीब चार घंटे तक उसे इधर-उधर घुमाते रहे।

गुरुवार रात 10 बजे बंधक बनाने के बाद अपराधियों ने आधी रात लगभग दो बजे उसे घटनास्थल से पांच किलोमीटर दूर ले जाकर छोड़ दिया। इसके बाद जब वह ट्रक के पास पहुंचा तब उसके ट्रक से प्याज की बोरी गायब थी। देशराज उत्तर प्रदेश के कौशंबी जिले का रहने वाला बताया जा रहा है। मोहनिया के थाना प्रभारी उदयभान ने बताया कि देशराज के बयान पर मोहनिया थाने में प्याज लूट की प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है तथा पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है।

इससे पहले दिसंबर महीने के प्रथम सप्ताह में भी इसी तर्ज पर कैमूर जिले के कुदरा थाना क्षेत्र में लुटेरे एक वाहन से 64 बोरी यानी करीब 1920 किलोग्राम लहसुन लूटकर फरार हो गए थे। इस मामले की प्राथमिकी कुदरा थाने में दर्ज कराई गई थी, परंतु अब तक इस मामले में पुलिस को कोई सफलता हाथ नहीं लगी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper