फिर हमले की साजिश रच रहे थे जैश आतंकी, इसलिए ध्वस्त किया ठिकाना : भारत

नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना द्वारा पाकिस्तान के बालाकोट में घुसकर किए गए हमले की पुष्टि करते हुए भारत ने दावा किया कि भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों को नष्ट कर दिया है। भारतीय विदेश सचिव गोखले ने कहा इस हमले में जैश के कई आतंकी मारे गए हैं।

हमले के बाद विदेश सचिव गोखले ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि पुख्ता खुफिया सूचना के बाद भारत ने जैश के ठिकानों पर नॉन मिलिटरी ऐक्शन के तहत हमले किया गया। विजय गोखले ने कहा, ‘इस सूचना के बाद कि जैश के आतंकी भारत में और आत्मघाती हमले करने के फिराक में है, भारत द्वारा हमला करना जरूरी हो गया था। हमने बालाकोट में जैश के ट्रेनिंग कैंप पर हमला किया, जिसमें कई बड़े आतंकी, सीनियर कमांडर और जेहादी मारे गए हैं।’

यूरोपीय देशों ने भी पाकिस्तान को लताड़ा, कहा- आतंकवादी संगठनों पर करनी होगी कार्रवाई

विदेश सचिव गोखले आगे कहा पुख्ता खुफिया सूचना के अनुसार जैश के आतंकी भारत में और आत्मघाती हमले करने के फिराक में थे, इस लिए भारत द्वारा हमला करना जरूरी हो गया था। हमने बालाकोट में जैश के ट्रेनिंग कैंप पर हमला किया, जिसमें कई बड़े आतंकी, सीनियर कमांडर और जेहादी मारे गए हैं। भारतीय वायुसेना ने हमला करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखा कि सामान्य नागरिक हमले प्रभावित नहीं हों।

हमारे लिए कार्रवाई करना जरूरी हो गया था, क्योंकि जैश पाकिस्तान में पिछले 20 साल से विस्तार कर रहा है, आतंकी साजिशें रच रहा है, लेकिन पाकिस्तान सरकार ने उसके खिलाफ कफी कोई कार्रवाई नहीं की है। जैश सरगना मसूद अजहर अंरराष्ट्रीय आतंकवादी है। यह संगठन 2001 में भारतीय संसद पर हुए आतंकी हमले और जनवरी 2016 में पठानकोट हमले में भी शामिल रहा है। बालाकोट में संचालित किए जा रहे जैश के आतंकी शिविरों को जैश सरगना मसूद अजहर का साला मौलाना यूसुफ अजहर चलाता था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper