फ्लाइट छूटने पर भड़के कांग्रेस विधायक, एयर इंडिया स्टाफ के साथ किया दुर्व्यवहार

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ के महासमुद विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक विनोद चंद्राकर पर एयर इंडिया की स्टाफ के साथ दुर्व्यवहार करने का आरोप लगा है। वीवीआईपी कल्चर का यह ताजा मामला शनिवार को रायपुर एयरपोर्ट पर नजर आया। विधायक ने ऐसा उस वक्त किया जब महिला स्टाफ ने उन्हें एयरपोर्ट देरी से पहुंचने पर विमान में चढ़ने से रोका। उस वक्त विधायक और उनके गुर्गों ने हवाई अड्डे पर जमकर हंगामा किया। ये जानकारी एयर इंडिया की ही रिपोर्ट में दी गई है।

बताया जा रहा है कि चंद्रकार और उनके चार अन्य सहयोगी बोर्डिंग गेट पर पहुंचे। उन्हें एयर इंडिया की सहायक कंपनी एलायंस एयर द्वारा संचालित फ्लाइट 9I-728 से रांची के लिए उड़ान भरनी थी लेकिन उन लोगों के वहां पहुंचने से पहले ही फ्लाइट एयरपोर्ट से निकल चुकी थी। हालांकि महासमुंद के विधायक चंद्रकार ने अपने ऊपर लगाए गए आरोपों का खंडन किया है और एआई प्रबंधन से घटना की शिकायत की है। एयर इंडिया के प्रवक्ता धनंजय कुमार ने बताया कि मामला हमारे संज्ञान में आया है। एआई प्रबंधन ने इसे गंभीरता से लिया है और विस्तृत जांच के आदेश दिए हैं। जांच रिपोर्ट के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। विधायक की शिकायत पर प्रतिक्रिया देते हुए एयरलाइन ने अपने प्रबंधन को प्रकरण का विवरण दिया।

रिपोर्ट में कहा गया है कि विधायक का बोर्डिंग कार्ड चार अन्य लोगों के साथ जारी किया गया था। पांचों लोगों को 9I-728 से उड़ान भरने थी। फ्लाइट रवाना होने के बाद वे बोर्डिंग गेट पर चढ़ गए और फिर उन्होंने चिल्लाना शुरू कर दिया। उन लोगों ने अपमानजनक भाषा का प्रयोग किया। एक महिला अधिकारी को सार्वजनिक तौर पर अपशब्द कहकर अपमानित किया। रिपोर्ट में कहा गया है कि चंद्रकार ने धमकी दी कि वह सत्ता पक्ष के विधायक हैं। उनमें से एक स्टाफ ने उनका (विधायक) पहचान पत्र पकड़ा। माननीय विधायक ने महिला स्टाफ के मोबाइल से स्टेशन प्रबंधक से बात की और बाद में उसका मोबाइल वापस करने से इनकार कर दिया।

वहीं चंद्रकार ने कहा, ‘मैं 5.55 बजे समय पर हवाई अड्डे पर पहुंचा। मुझे सुरक्षा में देरी हुई क्योंकि मेरे बैग को दो बार वहां चेक किया गया था। मेरे साथ यात्रा कर रहे लोगों में से एक बोर्डिंग गेट पर पहुंचा और एआई अधिकारी से अनुरोध किया कि थोड़ा इंतजार करें क्योंकि हम बस कुछ ही मिनट दूर थे। हो सकता है उसी में कुछ ऊंची बात हो गई होगी। ईगो से भरी उस महिला ने अधिकारी ने बोर्डिंग बंद कर दी और हमारे बिना ही फ्लाइट रवाना कर दी।’ एआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि महिला अधिकारी को विधायक और उनके समर्थकों के व्यवहार से बहुत परेशानी उठानी पड़ी। सीआईएसएफ और एक अन्य कर्मचारी ने उसे किसी तरह हवाई अड्डे के पिछले दरवाजे से बाहर निकाला। वहां उसे रात में 8.30 बजे लगभग दो किलोमीटर बारिश में भीगते हुए पैदल जाना पड़ा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper