बनारसी-कांजीवरम का क्रेज

भारतीय महिलाओं की सुंदरता का पैमाना बड़ा ही अद्भुत है। सांवली-सलोनी, तीखे नैन-नक्श और लंबे बालों वाली लड़की को कोई भी देखता है, तो वह उसकी नजरों में बस जाती है। ऐसी लड़की अगर साड़ी पहने हो, तो फिर उसकी खूबसूरती में चार-चांद और लग जाते हैं। इसके अलावा आप चाहे कितनी ही आधुनिक ड्रेसेज पहन लें, लेकिन खास मौकों पर साड़ी ही सबसे खूबसूरत महसूस कराती है। यही वजह है कि हर त्योहार और समारोह में लड़कियां साड़ी को प्राथमिकता देती हैं। हम आपको इस शादी सीजन की दो सबसे ज्यादा खूबसूरत साडिय़ों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपकी खूबसूरती में चार चांद लगा देंगी। हालांकि इनकी कीमत थोड़ी ज्यादा होती है, लेकिन यह आपकी खूबसूरती के मुकाबले कुछ भी नहीं है।

बनारसी साडिय़ां : यूं तो महिलाओं को सभी तरह की साडिय़ां पसंद होती हैं, लेकिन जब बात आती है बनारसी साड़ी की तो ये साड़ी महिलाओं का क्रेज बन जाती हैं। बनारसी साड़ी देखने में बेहद ही खूबसूरत होती हैं और इसे पहनने के बाद महिलाओं की खूबसूरती और भी ज्यादा निखर कर सामने आती है। रेशम की साडिय़ों पर बनारस (वाराणसी) में बुनाई के संग जरी के डिजाइन मिलाकर बुनने से तैयार होने वाली सुंदर रेशमी साड़ी को बनारसी साड़ी कहते हैं। उत्तर भारत में बनारसी साड़ी को एक तरह से सुहाग की निशानी के तौर पर भी देखा जाता है। इसलिए महिलाएं इसे और भी ज्यादा पसंद करती हैं। अगर आप भी बनारसी साड़ी लेना चाहती हैं, तो इसको आप कई अलग-अलग वैराइटी में भी देख सकते हैं। इनमें मल्टी बनारसी साड़ी, पौड़ी, पौड़ी नक्काशी, कतान अंबोज, टिपिकल बनारसी जंगला, एंटिक बूटा, जामेवार, कतान प्लेन, कतान फैंसी, तनछुई बनारसी समेत कई वैराइटीज शामिल हैं।

कांजीवरम साडिय़ां : आपने कांजीवरम साड़ी का नाम तो जरूर सुना होगा। वैसे तो यह साड़ी दक्षिण की महिलाओं की पहचान होती है, लेकिन आमतौर पर इस साड़ी को पहनने का सपना समूचे देश की महिलाएं देखती हैं। लंबे बालों पर सजी खूबसूरत वेणी और तीखे-नाक-नक्श, और कांजीवरम की खूबसूरत एवं भारी-भरकम साडिय़ां। आपने अक्सर ही बॉलीवुड ऐक्ट्रेस रेखा, जयप्रदा, वैजयंती माला को इन साडिय़ों में जरूर देखा होगा। अगर आपका फिगर अच्छा है, तो कांजीवरम साडिय़ों का कोई जवाब नहीं। कांजीवरम साड़ी आपको ट्रेडिशनल रिच कलर्स के साथ मिलती है, जो इसकी खूबसूरती को और ज्यादा बड़ा देती है। इसके अलावा ये साडिय़ां सबसे ज्यादा महंगी साडिय़ों में शुमार होती हैं, इसलिए आपका क्लास भी पार्टी में अलग हो जाता है।

दरअसल, इस सिल्क का नाम तमिलनाडु के एक गांव पर है, जहां इस सिल्क को बनाया जाता है। बाकी सिल्क साडिय़ों के मुकाबले ये साडिय़ां काफी भारी होती हैं, क्योंकि इनमें इस्तेमाल होने वाले सिल्वर धागे गोल्ड में डिप होते हैं, वहीं मोटिफ्स मोर और तोते से इंस्पायर्ड होते हैं। इस साड़ी का सबसे बेस्ट पार्ट होता है इसका पल्लू, जो अलग से बनाकर बाद में साड़ी से जोड़ा जाता है। इतना कुछ जानकर अगर आप भी सोच रही हैं कि इस तरह की साड़ी को पहनें, तो इसे जरूर पहनें, क्योंकि ये आपकी सुंदरता को और भी ज्यादा बढ़ा देती हैं।

मधु निगम

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper