बर्फबारी, बारिश ने हिमाचल में 5 एनएच सहित 800 से ज्यादा रास्ते किए बंद, पर्यटक फंसे

शिमला: पहाड़ों की रानी कहलाने वाले हिमाचल प्रदेश में इन दिनों भारी बर्फबारी और बारिश के कारण हालात खराब हैं। यहां की राजधानी शिमला और उसके आसपास के इलाकों में यातायात सेवाओं से लेकर बिजली आपूर्ति तक लगभग ठप है। सड़कों पर इतनी बर्फ है कि लोगों का पैदल चलना भी मुश्किल हो रहा है। वहीं जानकारी के अनुसार प्रदेश के पांच नेशनल हाईवे और 800 से ज्यादा रास्ते बर्फ के चलते बंद हो गए हैं। कई इलाकों में पर्यटक फंस गए हैं। बर्फबारी के कारण 2 हजार से ज्यादा ट्रांसफार्मर बंद हैं। बर्फबारी से करीब 8 करोड़ से भी ज्यादा के नुकसान होने का अनुमान लगाया जा रहा है।

हाईवे और स्‍थानीय रास्तों के बंद हो जाने के चलते कई स्थानों पर पर्यटक फंस गए हैं। पुलिस ने अलग-अलग स्थानों से कुल 43 लोगों को रेस्क्यू कर उन्हें सुरक्षित स्थान तक पहुंचाया है। मालूम हो कि कोटी के समीम बदाउनी घाटी में फंसे करीब 24 पर्यटकों में 9 पुरुष 11 महिलाएं और 4 बच्चों को रेस्‍क्यू किया गया है। वहीं जींद (हरियाणा) के रहने वाले 5 लोगों को मशोबरा से रेस्क्यू किया गया है।

वहीं मनाली में बर्फबारी के बाद तापमान काफी कम हो गया है। बुधवार को मनाली में पारा माइनस 9 पर दर्ज किया गया। वहीं बढ़ती ठंड के बाद पर्यटन पर भी गहरा असर पड़ा है। रास्तों के बंद होने और बिजली आपूर्ति की कमी के चलते अब जनजीवन पर प्रभाव पड़ रहा है। हरियाणा से आए करीब 13 अन्य लोगों को हसन वैली से रेस्क्यू कर सुरक्षित पहुंचाया गया है।

इस दौरान 4-4 वाहनों से सभी को लाया गया। एसपी ओमापति जम्वाल ने इसकी पुष्टि की है। इसमें दिल के एक मरीज समेत 4 मरीजों को डीडीयू से अस्पताल पहुंचाया गया है। कुल्लू से आईजीएमसी रेफर किए गए 2 मरीज विक्ट्री टनल पर फंसे थे, जिन्हें पुलिस ने आईजीएमसी पहुंचाया है। साथ ही 3 मानसिक रोगियों को भी पुलिस ने रेस्क्यू कर आईजीएमसी पहुंचाया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper