बहना ने भाई की…

‘तेरी-मेरी बनती नहीं और मेरी तेरे बिना चलती भी नहीं’, कुछ ऐसा ही रिश्ता होता है भाई-बहन का। इस रिश्ते में अगर तकरार जोरदार होती है, तो प्यार भी बेशुमार होता है। भाई-बहन का रिश्ता बहुत ही खूबसूरत होता है और अपने आप में कईं खूबसूरत लम्हों और प्यारी यादों को समेटे होता है। बॉलीवुड ने भी इस खास रिश्ते को खूब तवज्जो दी है।

पिछले करीब दो दशक में भाई-बहन के रिश्ते पर बनी फिल्मों पर नजर डालें, तो एक बात साफ हो जाती है कि केवल भाई ही अपनी बहन को गुंडों से नहीं बचाता है, बल्कि बहनें भी भाई की रक्षा करने के लिए सब कुछ दांव पर लगा देती हैं। पहले बात करते हैं फिल्म ‘सरबजीत’ की। यह फिल्म पाकिस्तान की जेल में 22 साल तक बंद रहे सरबजीत सिंह और उनकी बहन दलबीर कौर की असल जिंदगी पर बेस्ड थी। फिल्म में दिखाया गया था कि एक बहन अपने भाई की जिंदगी बचाने के लिए किसी भी हद तक जा सकती है।

यहां तक कि वह अपनी और दूसरे मुल्क की सरकार से भी टकरा सकती है। फिल्म में रणदीप हुड्डा और ऐश्वर्या राय भाई-बहन के रोल में नजर आए थे। वर्ष 2013 में आई राकेश ओमप्रकाश मेहरा की फिल्म ‘भाग मिल्खा भाग’ में भाई-बहन का रिश्ता ‘कोर’ सब्जेक्ट तो नहीं था, लेकिन मिल्खा (फरहान अख्तर) और उसकी बहन इसरी कौर (दिव्या दत्ता) के बीच का रिलेशन जिस तरह से दिखाया गया, वह दिल को छू गया।

भारत-पाकिस्तान बंटवारे के दौरान अपने पूरे परिवार की हत्या हो जाने के बाद मिल्खा अपनी बहन के साथ रहने लगता है। इसरी का पति उसे मारता-पीटता है, लेकिन वह सब सहती रहती है। जब वह उसके भाई मिल्खा पर हाथ उठाता है, तो इसरी बीच में आ जाती है। मिल्खा भी जब अपनी जिंदगी में सफल होता है तो सबसे पहले अपनी बहन से मिलने जाता है। इसके अलावा साल 2000 में रिलीज हुई फिल्म ‘फिजा’ में ऋतिक रोशन और करिश्मा कपूर भाई-बहन के रोल में नजर आए थे। इसमें दिखाया गया था कि दंगों के बीच कैसे ‘फिजा’ का भाई ‘अमान’ गायब हो जाता है। कई सालों तक भाई की तलाश करने के बाद फिजा को पता चलता है कि उसके भाई ने आतंकवादियों का ग्रुप ज्वॉइन कर लिया है। वह भाई को बुराई का रास्ता छोड़ घर वापस चलने के लिए राजी भी कर लेती है, लेकिन पर अंत में फिजा ही अपने भाई को गोली मारकर बुराइयों से ‘मुक्ति’ दिला देती है। साल 2005 में आई ‘माई ब्रदर निखिल’ में जूही चावला और संजय सूरी भाई-बहन के रोल में नजर आए थे।

यह फिल्म होमोसेक्शुएलिटी और एड्स जैसे सब्जेक्ट पर बनी थी। फिल्म में संजय का कैरेक्टर होमोसेक्शुअल होता है। उसे एड्स हो जाता है, जिसके चलते उसकी फैमिली और स्विमिंग टीम उससे किनारा कर लेती है। इस दौरान उसे सिर्फ अपनी बहन का साथ मिलता है, जो हर कदम उसके साथ कंधे से कंधा मिलाए खड़ी नजर आती है। इसके अलावा फिल्म ‘दिल धड़कने दो’ एक ऐसी फैमिली की कहानी है जहां कुछ सही नहीं चल रहा। फिल्म में प्रियंका चोपड़ा और रणवीर सिंह भाई-बहन के रोल में नजर आए थे। प्रियंका इसमें एक ऐसी बिजनेसवुमन के रोल में थीं, जो अपने कॅरियर पर फोकस करती है। वह अपने भाई का भी पूरा सपोर्ट करती है, जो अपनी जिंदगी में उसके जितना सक्सेसफुल नहीं हैं।

रियल लाइफ भाई-बहन

रक्षाबंधन अपने आप में एक बेहद खास त्योहार है, ऐसे में बात बॉलीवुड भाई-बहनों की न हो, हो ही नहीं सकता। बॉलीवुड में कई भाई-बहनों की जोडिय़ां सफलता के झंडे गाड़ रही हैं। इनमें सबसे पहला नाम है फरहान अख्तर और जोया अख्तर का। स्क्रीनराइटर-डायरेक्टर जोया कई फिल्मों में अपने भाई फरहान को असिस्ट कर चुकी हैं। जोया ने खुद भी एक फिल्म बनाई थी ‘लक बाय चांस’, जिसमें फरहान ने मुख्य भूमिका निभाई थी। भाई-बहन की यह जोड़ी इंडस्ट्री की सबसे क्रिएटिव और प्रतिभाशाली लोगों में से एक है। इसके अलावा एकता कपूर और तुषार कपूर भी एक-दूसरे के काफी करीब हैं। जब तुषार ने सिंगल पिता बनने का निर्णय लिया, तो सबसे ज्यादा खुशी एकता ने ही जताई थी। फराह खान और साजिद खान की भाई-बहन के तौर पर जोड़ी बेमिसाल है।

उन दोनों को सार्वजनिक मंच पर एक साथ जब भी देखा गया है, हमेशा एक-दूसरे के प्रति सहजता से प्यार जताते रहते हैं। टाइगर श्रॉफ और कृष्णा श्रॉफ के बीच भी काफी प्यार है। कृष्णा ने ट्रांसजेंडर्स की लाइफस्टाइल और इश्यूज को लेकर अवॉर्ड विनिंग डॉक्युमेंट्री बनाई थी। कृष्णा जल्द ही बॉलीवुड में डेब्यू करने की तैयारी में हैं। टाइगर तो बॉलीवुड में अपनी बेहतरीन नृत्य शैली और स्टंट से धमाल मचाए हुए हैं। अर्जुन कपूर और सोनम कपूर के बीच भी जबरदस्त केमिस्ट्री है। अर्जुन बॉलीवुड की नई सनसनी हैं, जबकि सोनम उनसे सीनियर हैं इंडस्ट्री में। इसके अलावा शाहिद कपूर और सना कपूर ने तो फिल्म ‘शानदार’ में साथ काम भी किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...

लखनऊ ट्रिब्यून

Vineet Kumar Verma

E-Paper