बहराइच में बुखार से 45 दिनों में 70 मासूमों की मौत

बहराइच: उत्तर प्रदेश के बहराइच में हेल्थ डिपार्टमेंट की लापरवाही का मामला प्रकाश में आया हैं। मंगलवार सुबह तक बीते 24 घंटे के दौरान 5 बच्चों की मौत हो चुकी है। वहीं बहराइच जिले में बुखार से 45 दिनों में 70 मासूमों की जिला अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई है। जबकि 86 लोगों जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

कई मासूमों की हालत गंभीर बताई जा रही है। इस बीमारी के सबसे ज्यादा शिकार बच्चे हो रहे हैं मरीजों की संख्या में तेजी से हो रही वृद्धि के चलते अस्पताल में बेड खाली नहीं बचे हैं। जिसके चलते मरीजों का जमीन पर उपचार किया जा रहा है।

ट्रिपल तलाक पर अध्यादेश लाएगी केंद्र सरकार, कैबिनेट की बैठक में मिली मंजूरी: सूत्र

सीएमएस डाॅक्टर ओपी पांडेय का कहना है कि, अस्पताल में बहराइच ही नहीं श्रावस्ती गोंडा और बलरामपुर के मरीज आते हैं जिसके चलते अस्पताल में मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है। उन्होंने बताया कि बीते 24 घंटे के दौरान 5 बच्चों की मौत हो चुकी है। इसमें दो बच्चे बर्थ एस्पेसिया से पीड़ित थे, दो बच्चों की दिमागी बुखार से और एक बच्चे की निमोनिया से मौत हुई है। वहीं बीते 24 घंटे में अस्पताल में 86 मरीज भर्ती किए गए हैं जबकि जिला अस्पताल के चिल्ड्रन वार्ड में 40 बेड ही उपलब्ध हैं।

अस्पताल में मासूमों का इलाज करा रहे परिजन अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगा रहे हैं। उनका कहना है कि यहां समय पर इलाज नहीं हो रहा है। इन बच्चों के परिजन को डर है कि कहीं जमीन पर लिटाकर इलाज करने से बच्चों में कोई और इंफेक्शन न हो जाये।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper