बाढ़ पीड़ितों को राहत नहीं पहुंचा रही भाजपा सरकार

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि पूर्वाचल में भारी बारिश से कई जिलों के किसानों के खेत पानी में डूब जाने से फसल बर्बाद हो गई है। मगर भाजपा सरकार ने अभी तक पीड़ित किसानों के लिए कोई राहत नहीं दी है। यादव ने जारी अपने बयान में कहा पूर्वांचल में भारी बारिश से गांव के गांव तबाह हुए हैं। खेतों में पानी भरा हुआ है। मगर सरकार ने राहत का कोई इंतजाम अभी तक नहीं किया है। नष्ट हुई फसलों के नुकसान का आंकलन भी अभी नहीं हुआ और न ही पशुओं के लिए चारा की व्यवस्था हुई। पीड़ित किसानों को कोई राहत न मिलना भाजपा सरकार की संवेदनहीनता ही है।

यूपी राज्य सड़क परिवहन निगम के नव नियुक्त प्रबंध निदेशक राजशेखर ने संभाली जिम्मेदारी

यादव ने कहा भाजपा किसानों की आय दोगुनी करने का सिर्फ भ्रम फैला रही है। भाजपा सरकार का किसानों का फसल की लागत का डय़ोढ़ा मूल्य देने का वादा भी अधूरा है। प्रदेश में न्यनूतम समर्थन मूल्य सिर्फ कागजी घोषणा बनकर रह गया है। सरकारी क्रय केन्द्रों पर परेशान हो रहा किसान बिचौलियों के हाथों सस्ते में अपनी उपज बेचने को मजबूर है। हर तरफ से उपेक्षित और कर्ज के बोझ से दबा किसान अंतत: आत्महत्या करने को बाध्य हो रहे हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री यादव ने केन्द्र सरकार द्वारा किसानों को 6 हजार रुपये साल देने की योजना को लेकर कटाक्ष करते हुए कहा भाजपा समझती है कि किसान के खाते में एक बार दो हजार रपए पहुंच जाएंगे तो किसान भाजपा के झूठे वादों को भूल जाएगा। उन्होंने कहा भाजपा राज में किसान ही नहीं नौजवान भी परेशान है। बेरोजगारी चरम पर है। युवाओं को नौकरियां नहीं मिल रहीं। नोटबंदी के बाद लघु एवं मध्यम उद्योग बंद हो गए हैं। बड़ी कम्पनियों में भी भारी पैमाने पर छंटनी हुई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper