बाबा रामदेव अब शाहीन बाग नहीं जाएंगे, यह है बड़ी वजह

नई दिल्ली: योग गुरु बाबा रामदेव को आज शुक्रवार के दिन दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में पहुंचना था। बाबा रामदेव ने शुक्रवार को इसकी घोषणा की थी, लेकिन अब सुरक्षा कारणों से उनका कार्यक्रम रद्द हो गया है। शाहीन बाग में स्थानीय महिलाएं नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ धरने पर बैठी हैं। रामदेव इन प्रदर्शनकारियों से बात करने शाहीन बाग जाना चाहते थे। लेकिन सुरक्षा के मद्देनजर प्रशासन ने बाबा को शाहीन बाग न जाने की सलाह दी है।

बाबा रामदेव ने शुक्रवार को एक टीवी कार्यक्रम के दौरान शाहीन बाग जाने की घोषणा की थी। इस दौरान उन्होंने कहा, “नागरिकता कानून से मुसलमानों की नागरिकता छिनेगी, यह झूठा प्रचार किया जा रहा है।” उन्होंने कहा था, “मैं कल (शनिवार) शाहीन बाग जाऊंगा। वहां जाकर उनकी सुनूंगा और उनसे बातें करके पीएम मोदी और उनके लोगों को बताऊंगा।”

बाबा रामदेव का कहना था कि वह किसी के पक्ष या विपक्ष, समर्थन या विरोध में नहीं जा रहे हैं। शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन पर बाबा रामदेव ने कहा कि सड़क पर धरना-प्रदर्शन ठीक नहीं है। जितना हिन्दू को रहने का अधिकार है, उतना ही मुस्लिमों को भी इस देश में रहने का अधिकार है। योग गुरु ने कहा, “उन्हें डर क्यों है? देश में काल्पनिक भय तैयार किया जा रहा है।” इस बीच दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “बाबा रामदेव की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उन्हें शाहीन बाग न जाने की सलाह दी गई है।” पुलिस ने अपनी यह सलाह बाबा रामदेव के सुरक्षा अधिकारियों को उपलब्ध कराई है।

इससे पहले बाबा रामदेव के सुरक्षा अधिकारी ने दिल्ली पुलिस को अवगत कराया था कि बाबा रामदेव शाहीन बाग जाना चाह रहे हैं। बाबा रामदेव के सुरक्षा अधिकारियों से मिली जानकारी के बाद दिल्ली पुलिस ने हालात का जायजा लिया। इसके उपरांत दिल्ली पुलिस ने बाबा रामदेव के सुरक्षा अधिकारी से कहा कि फिलहाल शाहीन बाग जाना ठीक नही है। पुलिस द्वारा स्थिति से अवगत कराए जाने के बाद रामदेव का शाहीन बाग जाने का कार्यक्रम रद्द हो गया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper