बिजनौर में नाव गंगा में डूबी 12 को बचाया, 20 लापता

बिजनौर: मंडावर इलाके में पशुओं का चारा ला रहे ग्रामीणों से भरी एक नाव असंतुलित होकर गंगा में डूब गई। नाव में महिलाएं सहित 32 लोग सवार थे। ग्रामीणों ने प्रयास कर 12 महिला व पुरु षों को तो बचा लिया, लेकिन अभी भी बीस लोग लापता बताये जा रहे हैं। ग्रामीणों ने एक शव मिलने का दावा किया है, लेकिन प्रशासन ने समाचार लिखे जाने तक किसी शव के मिलने की पुष्टि नहीं की है। मामले का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा संज्ञान लेने पर प्रशासन में हड़कम्प मच गया। कई घंटे बाद प्रशासनिक अधिकारी राहत व बचाव कार्य शुरू करने के लिए मौके पर पहुंचे।

ग्रामीणों के अनुसार गंगापार प्रतिदिन पशुओं का चारा लेने व खेती कार्य के लिए वह नाव पर सवार होकर ही आते-जाते हैं लेकिन शुक्रवार को अचानक गंगा में पानी अधिक होने के चलते उक्त हादसा हुआ। मंडावर इलाके के डैबलगढ़ व राजारामपुर गांव के ग्रामीण प्रतिदिन के भांति गंगा पार पशुओं का चारा लेने गये थे। शुक्रवार की सुबह से दोपहर तक चारा काटने के बाद ग्रामीण नाव पर पशुओं का चारा रखकर वापस घर आ रहे थे। पहाड़ी क्षेत्रों में लगातार बारिश के चलते गंगा का जलस्तर अन्य दिनों की अपेक्षा अधिक था। ऐसे में नाव जब गंगा की बीच धारा में पहुंची तो असंतुलित होकर पलटकर डूब गई।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुर्घटना पर दु:ख व्यक्त करते हुए मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये की आर्थिक सहायता 24 घंटे में उपलब्ध कराने के निर्देश जिलाधिकारी को दिये हैं। मुख्यमंत्री ने इस दुर्घटना में मृत व्यक्यिों की आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है तथा घायल व्यक्तियों के शीघ्र स्वास्य की कामना करते हुए युद्धस्तर पर राहत व बचाव कार्य के भी निर्देश दिये।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper