बिहार भाजपा ने आदित्य ठाकरे के सुशांत मामले में चुप्पी का कारण पूछा

पटना: बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में मुंबई के युवा नेता आदित्य ठाकरे की चुप्पी पर बिहार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शुक्रवार को सवाल उठाया है। बिहार भाजपा प्रवक्ता निखिल आनंद ने सुशांत सिंह राजपूत की संदेहास्पद मौत पर आदित्य ठाकरे की चुप्पी का कारण पूछते हुए कहा कि भारत के युवा प्रतिभाशाली कलाकार की मौत पर महाराष्ट्र का युवा नेता चुप क्यों हैं।

बिहार भाजपा प्रवक्ता निखिल आनंद ने एकबार फिर महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साधते हुए इस बार आदित्य ठाकरे से संवाद करते हुए कई सवाल पूछे हैं। उन्होंने पूछा कि भारत के एक युवा प्रतिभाशाली कलाकार सुशांत सिंह राजपूत की मुम्बई में संदेहास्पद स्थिति में मौत हो जाती है और महाराष्ट्र के युवा नेता चुप क्यों हैं? महाराष्ट्र सरकार में आदित्य ठाकरे एक अहम किरदार है और युवा होने के नाते एक युवा कलाकार की संदेहास्पद मौत पर अपनी सरकार सीबीआई जांच की सिफारिश क्यों नहीं करवाते हैं?”

उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि आदित्य ठाकरे की चुप्पी पर देश का हर युवा भी सवाल पूछ रहा है कि आखिर महाराष्ट्र के युवा नेता आदित्य ठाकरे की चुप्पी का राज क्या है?आदित्य ठाकरे बताएं कि वे सुशांत को न्याय दिलाने के पक्ष में हैं या फिर साजिशकर्ताओं के पक्ष में खड़े हैं? निखिल आनंद ने स्पष्ट करते हुए कहा कि यह सवाल शिवसेना के नेता आदित्य ठाकरे से इसलिए भी है कि उनके पिता महाराष्ट्र सरकार के मुख्यमंत्री हैं और वे महाराष्ट्र सरकार में एक हैसियत रखते हैं।

उन्होंने कहा, “बिहार की जनता सुशांत के मामले में सबूतों को मिटाने और तथ्यों से छेड़छाड़ की अफवाहें लगातार सुन रही है जिससे हमारी चिंता बढ़ी है। यही नहीं बिहार पुलिस की जांच पर महाराष्ट्र के गृह राज्यमंत्री का बयान भी आपत्तिजनक है। इन सब कारणों से बिहार की जनता को महाराष्ट्र सरकार, मुम्बई पुलिस पर भरोसा नहीं है और सीबीआई जांच ही एकमात्र उम्मीद है।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper