बुरी खबर: 25 हजार होमगार्ड्स की समाप्त की जा सकती हैं सेवाएं!

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार 25 हजार होमगार्डों की तैनाती ख़त्म करने पर विचार कर रही है. दरअसल, सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अमल करते हुए सरकार ने होमगार्ड्स को यूपी पुलिस के सिपाही के बराबर दैनिक भत्ता देने पर सहमत हो गई है. लेकिन, होमगार्ड्स के वेतन और एरियर पर होने वाले अतिरिक्त खर्च के भार को ख़त्म करने के लिए करीब 25 हजार होमगार्ड्स की सेवाएं समाप्त की जा सकती हैं.

बता दें कि 30 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 28 अगस्त को तत्कालीन मुख्य सचिव डॉ अनूप चंद्र पांडेय की अध्यक्षता में एक उच्चस्तरीय बैठक हुई थी. सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में सुप्रीम कोर्ट के आदेश को लागू करने पर सहमती बनी थी. साथ ही यह भी फैसला लिया गया कि वेतन और एरियर का भुगतान गृह विभाग के बजट से किया जाएगा. लेकिन, इससे पड़ने वाले अतिरिक्त वित्तीय बोझ को कम करने के लिए 25 हजार होमगार्ड्स की तैनाती खत्म करने पर भी फैसला हुआ. अगर इस प्रस्ताव पर मुहर लगती है तो यह होमगार्ड्स के जवानों के लिए तगड़ा झटका होगा.

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अब होमगार्ड्स को 500 के बजाय 672 रुपए दैनिक भत्ता मिलेगा. यानी प्रति होमगार्ड रोजाना 172 रुपए खर्च बढ़ेगा. मौजूदा समय में प्रदेश में 92 हजार होमगार्ड्स हैं, जिनमें से करीब 87 हजार ड्यूटी कर रहे हैं. अगर 172 रुपए रोजाना खर्च बढ़ता है तो 87 हजार होमगार्ड्स के लिए प्रतिदिन 1 करोड़ 49 लाख 64 हजार अतिरिक्त खर्च का बोझ सरकार को उठाना पड़ेगा.

इसके अलावा सरकार को 6 दिसंबर 2016 से एरियर भी देना है. लिहाजा, इस अतिरिक्त खर्च से बचने का रास्ता होमगार्ड्स की तैनाती ख़त्म कर निकालने की तैयारी है. इस तरह सरकार रोजाना 1.68 करोड़ रुपए की बचत कर सकेगी.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper