बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर पर गोली चलाने वाले फौजी की गिरफ्तारी पर संशय बरकरार, यूपी एसटीएफ का सामने आया बड़ा बयान

नई दिल्ली: बुलंदशहर में भीड में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की गोली मारकर हत्या करने वाले आरोपी फौजी की गिरफ्तारी को लेकर संशय बना हुआ है। आरोपी की पहचान जीतेंद्र सिंह उर्फ जीतू फौजी के रूप में हुई है और वह भारतीय सेना का जवान है जो कश्मीर में तैनात है। एसटीएफ की टीम उसे पकडऩे के लिए जम्मू-कश्मीर रवाना हो गई है। हालांकि कुछ मीडिया रिर्पोटस में आरोपी जीतू के पकडऩे की खबर सामने आई है, लेकिन यूपी एसटीएफ ने इन खबरों को निराधार किया है।

इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या में शामिल आरोपी जवान की तलाश के लिए जम्मू-कश्मीर में यूपी पुलिस की एक टीम शुक्रवार को पहुंची। भारतीय सेना ने भी इस बात की पुष्टि की और पुलिस को पूरा सहयोग देने का आश्वासन दिया। जानकारी के अनुसार यूपी पुलिस ने जीतू को हिंसा के कई विडियो में देखा है। हिंसा के 14 विडियो क्लिप को एसआईटी ने खंगाला है। कुछ आरोपियों के बयान भी रेकॉर्ड किए गए है। यूपी आईजी (क्राइम) एस. के. भगत ने कहा कि जीतू का नाम स्याना में दंगे, आगजनी और हत्या के सिलसिले में लिखी गई मूल एफआईआर में आरोपी के तौर पर शामिल है। मूल एफआईआर में जीतू का जिक्र आरोपी नंबर 11 के तौर पर है और उसका नाम जीतू फौजी पुत्र राजपाल सिंह लिखा हुआ है। मेरठ जोन के एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा, ‘जीतू का नाम एफआईआर में दर्ज है और उसे पकडऩे के लिए टीमें जम्‍मू भेज दी गई है। वह 27 नामजद लोगों में से एक है।

जम्मू-कश्मीर में भीषण हादसा, बस खाई में गिरने से 11 यात्रियों की मौत

पुलिस को मिले बुलंदशहर हिंसा के वीडियो में इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या के वक्त जीतू उनके बेहद करीब खड़ा था। वहीं जीतू की मां रतना कौर का कहना है कि वह उस वीडियो में अपने बेटे को नहीं पहचान पा रही हैं। वहीं रिश्तेदारों का कहना है कि जीतू उस वक्त घटनास्थल पर ही मौजूद था। उन्होंने बताया कि इस घटना के बाद वह तुरंत जम्मू कश्मीर के लिए निकल गया था। जीतू की मां का कहना है कि अगर उनके बेटे ने पुलिस इंस्पेक्टर को गोली मारी है तो वह खुद उसकी जान ले लेंगी।

बता दें कि बुलंदशहर के स्याना स्थित चिंगरावटी में गोकशी के शक को लेकर भीड़ की हिंसा में थाना कोतवाली में तैनात इंस्पेक्टर सुबोध सिंह और सुमित नामक एक अन्य युवक की मौत हो गई थी। इस मामले में 27 नामजद लोगों तथा 50-60 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper