बेगूसराय की बदली फिजा ,कन्हैया को मिले 31 लाख का चंदा

दिल्ली ब्यूरो: जहां नेताओं को जनता ठग और घपलेबाज कहने से नहीं चूक रहे वही बेगूसराय की जनता कन्हैया कुमार के समर्थन में चन्दा देने से गुरेज नहीं कर रहे। बेगूसराय में सीपीआई(एम) से चुनावी मैदान में उतरे कन्हैया कुमार को लगभग 2,400 लोगों ने 31 लाख रुपए का चंदा दिया है। एक पूर्व प्रकाशक से उन्हें सबसे अधिकतम 5 लाख रूपये की राशि मिली है। इसके अलावा लगभग 1500 लोगों ने 100 रूपये से 150 रुपए के बीच योगदान दिया है. यह फंड संग्रह ”आवर डेमोक्रेसी डॉट इन” नामक वेबसाइट के माध्यम से की जा रही है। रिपोर्ट के अनुसार, कन्हैया ने 70 लाख रुपए जमा करने का लक्ष्य रखा है। उसके बाद क्राउडफंडिंग बंद कर दी जाएगी।

भाकपा के सचिव सत्य नारायण सिंह ने कहा, “हम हमेशा से लोगों के योगदान पर निर्भर रहे हैं। कन्हैया ने फंड जमा करने की हमारी पूरानी प्रणाली को डिजिटल कर दिया है और इससे काम अच्छा हुआ है। हमें देश भर के लोगों से भारी प्रतिक्रिया मिली है. हमने विदेशी फंडिग को ना कहा है।” खबर के मुताविक 26 मार्च को कन्हैया के लिए फंड संग्रह करना शुरू किया गया और पहले ही दिन 30 लाख रुपए एकत्र किया। अब तक 31 लाख रुपए एकत्र हुआ है। सर्वर कुछ वक्त के लिए डाउन हो गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper